ऑनलाइन बैठक

मेन्‍यू

अगला

“स्वर्गिक राज्य का मेरा स्वप्न”: Welcome Jesus Christ’s Return

27,175 10/11/2019

जैसे ही कोई दक्षिण कोरियाई पादरी प्रभु के आगमन की उत्‍सुकतापूर्वक प्रतीक्षा कर रहा होता है, तो उसे चमकती पूर्वी बिजली के बारे में पता चलता है जो चीन में प्रकट हुई है, जो यह गवाही देती है कि प्रभु पहले ही लौट चुका है। वह सच्‍चे मार्ग की जाँच-पड़ताल करने के लिए चीन जाता है। कई असफलताओं के बाद वह सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के वचनों को पढ़ने में समर्थ होता है, लेकिन जैसे ही वह सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के वचनों के माध्‍यम से प्रभु की आवाज़ को पहचाता है, तो अचानक ही उसे सीसीपी सरकार द्वारा गिरफ़्तार करके कोरिया निर्वासित कर दिया जाता है। सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के वचनों को नहीं पढ़ पाने के कारण वह बहुत परेशान और मायूस अनुभव करता है... एक दिन अनायास उसे सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर की कलीसिया की सुसमाचार की वेबसाईट का पता चलता है और वह कलीसिया के साथ सम्‍पर्क स्‍थापित करता है। सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर की कलीसिया के गवाहों की गवाही और संगति के माध्‍यम से, वह पूरी तरह यह निर्धारित करता है कि सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर ही प्रभु यीशु की वापसी है। वह प्रसन्‍नतापूर्वक अंत के दिनों के सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर का कार्य स्‍वीकार कर लेता है और स्‍वर्ग के राज्‍य में प्रवेश करने का मार्ग पा लेता है। स्‍वर्ग के राज्‍य का उसका अवसर अंतत: सच्‍चाई बन जाता है।

उत्तर यहाँ दें