ऑनलाइन बैठक

मेन्‍यू

प्रभु यीशु मसीह किस प्रकार वापिस आएंगे इस बारे में दो विभिन्‍न भविष्यवाणियाँ

प्रभु यीशु मसीह की वापसी के 2 प्रकार

अब, यह प्रभु की वापसी का स्वागत करने का महत्वपूर्ण क्षण है। बहुत से लोग केवल आकाश में टकटकी लगाए, प्रभु के बादलों के साथ उतरने की प्रतीक्षा करते हैं। हालाँकि, बादलों के साथ आने वाले प्रभु के बारे में न केवल बाइबल की भविष्यवाणियाँ हैं, बल्कि बाइबल गुप्त रूप से प्रभु के आने की भविष्यवाणियों के बारे में बताती है, जैसे "आधी रात को धूम मची, कि देखो, दूल्हा आ रहा है, उससे भेंट करने के लिये चलो।" "देख, मैं द्वार पर खड़ा हुआ खटखटाता हूँ; यदि कोई मेरा शब्द सुनकर द्वार खोलेगा, तो मैं उसके पास भीतर आकर उसके साथ भोजन करूँगा, और वह मेरे साथ।" "यदि तू जागृत न रहेगा तो मैं चोर के समान आ जाऊँगा और तू कदापि न जान सकेगा, कि मैं किस घड़ी तुझ पर आ पड़ूँगा।" जरा इस बारे में सोचें: यदि परमेश्वर केवल अंतिम दिनों में बादलों के साथ आए, तो कैसे होगा। भविष्यवाणी "मैं चोर के समान आ जाऊँगा" कैसे पूरी होगी? हर कोई उसे देखेगा, इसलिए चिल्लाना जरूरी होगा, "दूल्हा आ रहा है, उससे भेंट करने के लिये चलो।" परमेश्वर की वापसी कैसे होगी? प्रभु की वापसी और संबंधित सामग्री के बारे में निम्नलिखित बाइबिल छंद आपको सही ढंग से समझने और प्रभु की वापसी के बारे में भविष्यवाणियों का इलाज करने में मदद करेंगे और प्रभु की वापसी का स्वागत करने का तरीका ढूंढेंगे।

आपदाएँ आ रही हैं। हम परमेश्वर की उपस्थिति का स्वागत कैसे कर सकते हैं और परमेश्वर द्वारा संरक्षित होने का मौका पा सकते हैं? उनसे चर्चा करने के लिए हमसे संपर्क करें।

1.प्रभु के गुप्‍त रूप से आने की भविष्यवाणी

"तुम भी तैयार रहो; क्योंकि जिस घड़ी तुम सोचते भी नहीं, उस घड़ी मनुष्य का पुत्र आ जाएगा" (लूका 12:40)।

"आधी रात को धूम मची: ‘देखो, दूल्हा आ रहा है! उससे भेंट करने के लिये चलो'" (मत्ती 25:6)।

"यदि तू जागृत न रहेगा तो मैं चोर के समान आ जाऊँगा, और तू कदापि न जान सकेगा कि मैं किस घड़ी तुझ पर आ पड़ूँगा" (प्रकाशितवाक्य 3:3)।

"देख, मैं चोर के समान आता हूँ; धन्य वह है जो जागता रहता है, और अपने वस्त्र की चौकसी करता है कि नंगा न फिरे, और लोग उसका नंगापन न देखें" (प्रकाशितवाक्य 16:15)।

"देख, मैं द्वार पर खड़ा हुआ खटखटाता हूँ; यदि कोई मेरा शब्द सुनकर द्वार खोलेगा, तो मैं उसके पास भीतर आकर उसके साथ भोजन करूँगा और वह मेरे साथ" (प्रकाशितवाक्य 3:20)।

"क्योंकि जैसे बिजली आकाश के एक छोर से कौंध कर आकाश के दूसरे छोर तक चमकती है, वैसे ही मनुष्य का पुत्र भी अपने दिन में प्रगट होगा। परन्तु पहले अवश्य है कि वह बहुत दु:ख उठाए, और इस युग के लोग उसे तुच्छ ठहराएँ" (लूका 17:24-25)।

"क्योंकि जैसे बिजली पूर्व से निकलकर पश्चिम तक चमकती है, वैसे ही मनुष्य के पुत्र का भी आना होगा" (मत्ती 24:27)।

2.प्रभु के खुलेआम आने की भविष्यवाणी

"देखो, वह बादलों के साथ आनेवाला है, और हर एक आँख उसे देखेगी, वरन् जिन्होंने उसे बेधा था वे भी उसे देखेंगे, और पृथ्वी के सारे कुल उसके कारण छाती पीटेंगे। हाँ। आमीन" (प्रकाशितवाक्य 1:7)।

"उन दिनों के क्लेश के तुरन्त बाद सूर्य अन्धियारा हो जाएगा, और चन्द्रमा का प्रकाश जाता रहेगा, और तारे आकाश से गिर पड़ेंगे और आकाश की शक्तियाँ हिलाई जाएँगी। तब मनुष्य के पुत्र का चिह्न आकाश में दिखाई देगा, और तब पृथ्वी के सब कुलों के लोग छाती पीटेंगे; और मनुष्य के पुत्र को बड़ी सामर्थ्य और ऐश्वर्य के साथ आकाश के बादलों पर आते देखेंगे" (मत्ती 24:29-30)।

"देखो, प्रभु अपने लाखों पवित्रों के साथ आया..." (यहूदा 1:14)।

प्रभु यीशु मसीह का दूसरा आगमन

"सूरज, और चाँद, और तारों में चिह्न दिखाई देंगे; और पृथ्वी पर देश-देश के लोगों को संकट होगा, क्योंकि वे समुद्र के गरजने और लहरों के कोलाहल से घबरा जाएँगे। भय के कारण और संसार पर आनेवाली घटनाओं की बाट देखते-देखते लोगों के जी में जी न रहेगा, क्योंकि आकाश की शक्तियाँ हिलाई जाएँगी। तब वे मनुष्य के पुत्र को सामर्थ्य और बड़ी महिमा के साथ बादल पर आते देखेंगे" (लूका 21:25-27)।

"और उनसे कहा, हे गलीली पुरुषो, तुम क्यों खड़े आकाश की ओर देख रहे हो? यही यीशु, जो तुम्हारे पास से स्वर्ग पर उठा लिया गया है, जिस रीति से तुम ने उसे स्वर्ग को जाते देखा है उसी रीति से वह फिर आएगा" (प्रेरितों 1:11)।

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन:

"बहुत से लोगों को शायद इसकी परवाह न हो कि मैं क्या कहता हूँ, किंतु मैं ऐसे हर तथाकथित संत को, जो यीशु का अनुसरण करते हैं, बताना चाहता हूँ कि जब तुम लोग यीशु को एक श्वेत बादल पर स्वर्ग से उतरते अपनी आँखों से देखोगे, तो यह धार्मिकता के सूर्य का सार्वजनिक प्रकटन होगा। शायद वह तुम्हारे लिए एक बड़ी उत्तेजना का समय होगा, मगर तुम्हें पता होना चाहिए कि जिस समय तुम यीशु को स्वर्ग से उतरते देखोगे, यही वह समय भी होगा जब तुम दंडित किए जाने के लिए नीचे नरक में जाओगे। वह परमेश्वर की प्रबंधन योजना की समाप्ति का समय होगा, और वह समय होगा, जब परमेश्वर सज्जन को पुरस्कार और दुष्ट को दंड देगा। क्योंकि परमेश्वर का न्याय मनुष्य के देखने से पहले ही समाप्त हो चुका होगा, जब सिर्फ़ सत्य की अभिव्यक्ति होगी।"

उत्तर यहाँ दें