ऑनलाइन बैठक

मेन्‍यू

अगला

Hindi Christian Movie "कितनी सुंदर वाणी" अंश 5 : अंत के दिनों का परमेश्वर का न्याय इन्सान के लिए उद्धार है

4,747 13/07/2019

कुछ लोग सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के वचनों को पढ़कर यह समझते हैं कि उनमें कुछ कठोर बातें कही गई हैं जैसे कि मानवजाति का न्‍याय, निंदा और शाप। उनका मानना है कि अगर परमेश्‍वर लोगों का न्‍याय करते या उन्‍हें शाप देते हैं, तो क्‍या वे निंदित या दंडित न होंगे? यह कैसे कहा जा सकता है कि ऐसा न्‍याय मनुष्‍य को शुद्ध करने और बचाने के लिये है? अंत के दिनों मे परमेश्‍वर के न्याय के कार्य को समझने का सही तरीका क्‍या है? जवाब इस वीडियो में जानिए।

उत्तर यहाँ दें