ऑनलाइन बैठक

मेन्‍यू

अगला

Hindi Christian Movie "ईमान से समझौता नहीं": ईमानदारी की कहानी

42,755 30/05/2021

वांग शिनयू और उसके पति की कपड़े की एक दुकान है। हालाँकि आरंभ में वे पूरी सच्चाई और ईमानदारी से अपना स्टोर चलाते हैं। लेकिन अधिक धन नहीं कमा पाते और बड़ी मुश्किल से गुज़र-बसर कर पाते हैं। लेकिन जब वे अपने साथियों को झूठ और फ़रेब से कारोबार करके गाड़ियाँ और घर ख़रीदते, ऐशो-आराम की ज़िंदगी जीते देखते हैं, तो वे निर्णय करते हैं कि अब वे भी पीछे नहीं रहेंगे, और अपने साथियों की राह पर ही चलते हुए, वे झूठ और फ़रेब से कारोबार करने लगते हैं। कुछ सालों बाद, हालाँकि उन्होंने पैसा कमा लिया, उनकी अंतरात्मा उन्हें कचोटती है, उन्हें अपने दिल में एक ख़ालीपन का एहसास होता है। तब वे सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अंत के दिनों के सुसमाचार को स्वीकार कर लेते हैं, परमेश्वर के वचन पढ़ते हैं। इससे उन्हें पता चलता है कि परमेश्वर को ईमानदार लोग पसंद हैं और वह कपटी लोगों से घृणा करता है। उन्हें समझ में आ जाता है कि ईमानदार लोगों को परमेश्वर की आशीष मिलती है। लेकिन, वे जगत में बुराई और अंधेरा भी देखते हैं और इस बात से चिंतित हो जाते हैं कि ईमानदारी से कारोबार करके वे धन नहीं कमा सकेंगे, बल्कि पैसा गँवाने का जोखिम बना रहेगा। इस तरह वे झूठ और कपट के सहारे ग्राहकों को धोखा देते रहते हैं। वे यह भी जानते हैं कि परमेश्वर इसी वजह से उनसे घृणा करता है... तमाम संघर्षों और नाकामियों के बाद, आख़िरकार वे परमेश्वर के वचनों के अनुसार, ईमानदार इंसान बनने का संकल्प लेते हैं। जब उन्हें परमेश्वर की आशीष मिलती है तो वे आश्चर्यचकित हो जाते हैं। उनका कारोबार तो फलता-फूलता ही है, उन्हें ईमानदार इंसान बनने का सुख और सुरक्षा भी प्राप्त होती है।

उत्तर यहाँ दें