ऑनलाइन बैठक

मेन्‍यू

अगला

Hindi Christian Movie "कौन चढ़ा रहा है परमेश्वर को दोबारा सूली पर" | The Pharisees Have Reappeared

19,639 07/02/2020

गू शाउचेंग चीन की एक गृह कलीसिया में पादरी हैं। उन्होंने कई सालों तक प्रभु में विश्वास किया है; वे अपने धर्मोपदेशों पर निरंतर काम करते रहे हैं, और सुसमाचार का प्रचार करने हर जगह जाते रहे हैं। सुसमाचार के प्रचार के कारण उनको पकड़कर जेल में बंद कर दिया गया था, जहां उन्होंने 12 साल की सजा काटी। जेल से बाहर आने के बाद, गू शाउचेंग ने कलीसिया में अपना काम जारी रखा। परंतु जब सर्वशक्तिमान परमेश्वर का राज्य का सुसमाचार गू शाउचेंग की कलीसिया में पहुंचा, तो वे न तो इसकी कोई खबर लेते हैं, न कोई खोजबीन करते हैं, बल्कि हठपूर्वक अपनी खुद की धारणाओं और कल्पनाओं पर भरोसा करते हुए परमेश्वर के अंत के दिनों के कार्य की निंदा करते हैं। वे सच्चे मार्ग को स्वीकार करने से विश्वासियों को रोकने और तोड़ने के लिए अपनी धारणाएं और भ्रांतियां फैलाने की हर-संभव कोशिश करते हैं। ख़ास तौर से जब सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन पढ़ने के बाद जब गू शाउचेंग ने पाया कि उनमें अधिकार और सामर्थ्य है और यह कि जो भी उनको सुनेगा वह कायल हो जायेगा, तब वे अत्यंत भयभीत हो गए कि कलीसिया में जिसने भी सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन पढ़े, वह उनका विश्वासी बन जायेगा। उन्हें डर लगा कि तब उनकी पदवी और रोजी-रोटी खतरे में पड़ जायेगी। इसलिए, उन्होंने कलीसिया के एल्डर वांग सेन और दूसरे लोगों से इस पर विचार-विमर्श किया और फैसला किया कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर की निंदा और उन पर हमला करने के लिए चीन की कम्युनिस्ट सरकार द्वारा उपयोग की गयी अफवाहों से लोगों को झांसा देंगे। गू शाउचेंग और वांग सेन कलीसिया को सीलबंद कर लोगों को सच्चा मार्ग अपनाने से रोकने की हर-संभव कोशिश करते हैं, और वे सर्वशक्तिमान परमेश्वर की गवाही देनेवालों को पकड़ कर उत्पीड़ित करने में सीसीपी के शैतानी शासन के साथ सहयोग भी करते हैं। उनके कारनामे परमेश्वर के स्वभाव को गंभीर रूप से ठेस पहुंचाते हैं और इससे उनको शाप लगता है। जब वांग सेन राज्य का सुसमाचार प्रसारित करते कुछ लोगों को पकड़वाने जा रहे होते हैं, तो एक कार दुर्घटना में घटना-स्थल पर ही उनकी मृत्यु हो जाती है। गू शाउचेंग भय और हताशा में जीते हैं और भय के चक्रव्यूह में फंस जाते हैं। वे खुद से बार-बार यही सवाल करते हैं: "क्या सर्वशक्तिमान परमेश्वर की मेरी निंदा परमेश्वर को दोबारा सूली पर चढ़ा रही है?"

उत्तर यहाँ दें