ऑनलाइन बैठक

मेन्‍यू

बाइबल की भविष्यवाणियाँ—धार्मिक विश्व की तबाही

बाइबल की भविष्यवाणियाँ—धार्मिक विश्व की तबाही

"परमेश्‍वर यहोवा की यह वाणी है, 'देखो, ऐसे दिन आते हैं, जब मैं इस देश में अकाल करूँगा; उसमें न तो अन्न की भूख और न पानी की प्यास होगी, परन्तु यहोवा के वचनों के सुनने ही की भूख प्यास होगी'" (आमोस 8:11)।

"और जब कटनी के तीन महीने रह गए, तब मैंने तुम्हारे लिये वर्षा न की; मैंने एक नगर में जल बरसाकर दूसरे में न बरसाया; एक खेत में जल बरसा, और दूसरा खेत जिसमें न बरसा; वह सूख गया। इसलिए दो तीन नगरों के लोग पानी पीने को मारे-मारे फिरते हुए एक ही नगर में आए, परन्तु तृप्त न हुए; तो भी तुम मेरी ओर न फिरे,' यहोवा की यही वाणी है" (आमोस 4:7-8)।

"और अधर्म के बढ़ने से बहुतों का प्रेम ठण्डा हो जाएगा" (मत्ती 24:12)।

दो हजार साल पहले, जब प्रभु यीशु अपना काम करने के लिए आया था, एक पवित्र मंदिर जहाँ यहोवा की महिमा प्रज्ज्वलित हुई, अकाल से पीड़ित हो गया और चोरों की गुफा बन गयाI आज, धार्मिक दुनिया उजाड़ हो गई है, धर्म खत्म हो गया है और विश्वासियों को जीवन के पानी की आपूर्ति प्राप्त करने में असमर्थ रहा है, अपना विश्वास और प्यार खो दिया है, और एक नकारात्मक और कमजोर स्थिति में रहता है। ऐसा क्यों है? इसके पीछे परमेश्वर की इच्छा क्या है? हम पवित्र आत्मा के कार्य के साथ चर्च को कैसे पा सकते हैं? निम्नलिखित संबंधित बातें।आपको उत्तर बताएगी।

विषय के अनुसार बाइबल के पद” और “बाइबल अध्ययन” खंडों में दैनिक भक्ति संसाधनों का उपयोग करने के लिए आपका स्वागत है, ये आपके आध्यात्मिक जीवन को समृद्ध कर सकते हैं।

उत्तर यहाँ दें