ऑनलाइन बैठक

मेन्‍यू

क्या परमेश्वर उन पापों को क्षमा करते हैं जिन्हें आप दोहराना जारी रखते हैं?

बहुत से लोग, चाहे वे कितने भी लंबे समय तक प्रभु में विश्वास करें, फिर भी दिन को पाप करने और रात को कबूल करने की स्थिति में रहते हैं, और इसलिए वे इस बात को लेकर चिंतित हैं कि क्या परमेश्वर उन पापों को क्षमा करता है जो वे दोहराते रहते हैं और क्या वे अंत में स्वर्गीय राज्य में प्रवेश कर सकते हैं। असल में, प्रभु के वचनों ने हमें इन मुद्दों के प्रति परमेश्वर के रवैए, के साथ-साथ पाप को हल करने के मार्ग को पहले ही बता दिया है।

क्या परमेश्वर उन पापों को क्षमा करते हैं जिन्हें आप दोहराना जारी रखते हैं?

प्रभु यीशु ने कहा, "मैं तुम से सच-सच कहता हूँ कि जो कोई पाप करता है, वह पाप का दास है। और दास सदा घर में नहीं रहता; पुत्र सदा रहता है" (यूहन्ना 8:34-35)। लैव्यव्यवस्था 11:45 कहता है, "तुम पवित्र बनो, क्योंकि मैं पवित्र हूँ।" प्रकाशितवाक्य 21:27 में यह कहता है, "और उसमें कोई अपवित्र वस्तु या घृणित काम करनेवाला, या झूठ का गढ़नेवाला, किसी रीति से प्रवेश न करेगा।" परमेश्वर के वचन हमें दिखाते हैं कि परमेश्वर पवित्र और धर्मी हैं, और कि वे सभी जो पाप करते हैं पाप के दास हैं। इसलिए, परमेश्वर हमेशा उन पापों को माफ नहीं करेंगे जो लोग दोहराना जारी रखते हैं। जैसे कि बाइबल दर्ज करती है, "क्योंकि सच्चाई की पहचान प्राप्त करने के बाद यदि हम जान-बूझकर पाप करते रहें, तो पापों के लिये फिर कोई बलिदान बाकी नहीं। हाँ, दण्ड की एक भयानक उम्मीद और आग का ज्वलन बाकी है जो विरोधियों को भस्म कर देगा" (इब्रानियों 10:26-27)। इस प्रकार, हमारे लिए जिनके पाप प्रभु में विश्वास करने के बाद क्षमा किये जा चुके हैं, लेकिन फिर भी बार-बार पाप करते हैं, और प्रभु की शिक्षाओं का अभ्यास करने और पाप के बंधनों से मुक्त होने में असमर्थ हैं, अंत में हम परमेश्वर की चिरस्थायी क्षमा प्राप्त नहीं कर सकते और परमेश्वर के राज्य में प्रवेश नहीं कर सकते हैं। प्रभु ने व्यक्तिगत रूप से जो कहा है, उसके आधार पर इसका उत्तर यह है।

बार-बार पाप करने की स्थिति से कैसे बाहर निकलें

यदि हम परमेश्वर की क्षमा को प्राप्त करना चाहते हैं और परमेश्वर के राज्य में प्रवेश करना चाहते हैं, तो हम केवल पापों के बंधन और बाधाओं को अच्छी तरह से मिटाकर और शुद्धि प्राप्त करके ही ऐसा कर सकते हैं। दरअसल, प्रभु यीशु ने हमें पाप से समाधान का मार्ग बताया है। प्रभु ने कहा, "मुझे तुम से और भी बहुत सी बातें कहनी हैं, परन्तु अभी तुम उन्हें सह नहीं सकते। परन्तु जब वह अर्थात् सत्य का आत्मा आएगा, तो तुम्हें सब सत्य का मार्ग बताएगा, क्योंकि वह अपनी ओर से न कहेगा, परन्तु जो कुछ सुनेगा, वही कहेगा, और आनेवाली बातें तुम्हें बताएगा" (यूहन्ना 16:12-13)। "यदि कोई मेरी बातें सुनकर न माने, तो मैं उसे दोषी नहीं ठहराता, क्योंकि मैं जगत को दोषी ठहराने के लिये नहीं, परन्तु जगत का उद्धार करने के लिये आया हूँ। जो मुझे तुच्छ जानता है और मेरी बातें ग्रहण नहीं करता है उसको दोषी ठहरानेवाला तो एक है: अर्थात् जो वचन मैंने कहा है, वह अन्तिम दिन में उसे दोषी ठहराएगा" (यूहन्ना 12:47-48)। "सत्य के द्वारा उन्हें पवित्र कर: तेरा वचन सत्य है" (यूहन्ना 17:17)। 1 पतरस 4:17 कहता है, "क्योंकि वह समय आ पहुँचा है, कि पहले परमेश्‍वर के लोगों का न्याय किया जाए।" हम इन वचनों से देख सकते हैं कि, जब परमेश्वर हमारे कद और जरूरतों के आधार पर अंतिम दिनों में लौटेंगे, तो वे सत्य को व्यक्त करेंगे और परमेश्वर के घर से शुरू होने वाले न्याय का कार्य करेंगे छुटकारा के कार्य की नींव पर। सच्चाई के साथ, वह हमारे पापी स्वभाव का न्याय करेगा और उसे शुद्ध करेगा, और हमें हमारे पापी स्वभाव बदलने की राह दिखाएगा, ताकि हम पाप के बंधन और बाधाओं को अच्छी तरह से मिटा सकें। इसलिए, यदि हम बार-बार पाप करने की स्थिति से दूर होना चाहते हैं, तो हमें अंतिम दिनों के मसीह द्वारा किए गए परमेश्वर के घर से शुरू होने वाले न्याय के कार्य को स्वीकार करना चाहिए।

प्रभु ने पहले ही न्याय का कार्य करने के लिए लौट आया है

आजकल, केवल सर्वशक्तिमान परमेश्वर का चर्च गवाही देता है कि प्रभु यीशु अंतिम दिनों के सर्वशक्तिमान परमेश्वर, आतिम दिनों के मसीहा के रूप में लौटे हैं। सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने कई सत्य व्यक्त किए हैं और मनुष्य के पापों को पूरी तरह से समाप्त करने के लिए परमेश्वर के घर से शुरू होने वाले न्याय के कार्य का शुरुआत किया है। अब, आइए सर्वशक्तिमान परमेश्वर के शब्दों के दो अंश पर एक नज़र डालें, "यद्यपि यीशु ने मनुष्यों के बीच अधिक कार्य किया, फिर भी उसने केवल समस्त मानवजाति की मुक्ति का कार्य पूरा किया और वह मनुष्य की पाप-बलि बना; उसने मनुष्य को उसके समस्त भ्रष्ट स्वभाव से छुटकारा नहीं दिलाया। मनुष्य को शैतान के प्रभाव से पूरी तरह से बचाने के लिए यीशु को न केवल पाप-बलि बनने और मनुष्य के पाप वहन करने की आवश्यकता थी, बल्कि मनुष्य को उसके शैतान द्वारा भ्रष्ट किए गए स्वभाव से मुक्त करने के लिए परमेश्वर को और भी बड़ा कार्य करने की आवश्यकता थी। और इसलिए, अब जबकि मनुष्य को उसके पापों के लिए क्षमा कर दिया गया है, परमेश्वर मनुष्य को नए युग में ले जाने के लिए वापस देह में लौट आया है, और उसने ताड़ना एवं न्याय का कार्य आरंभ कर दिया है। यह कार्य मनुष्य को एक उच्चतर क्षेत्र में ले गया है। वे सब, जो परमेश्वर के प्रभुत्व के अधीन समर्पण करेंगे, उच्चतर सत्य का आनंद लेंगे और अधिक बड़े आशीष प्राप्त करेंगे। वे वास्तव में ज्योति में निवास करेंगे और सत्य, मार्ग और जीवन प्राप्त करेंगे।"

"अंत के दिनों के कार्य में वचन चिह्न और चमत्कार दिखाने से कहीं अधिक शक्तिमान है, और वचन का अधिकार चिह्नों और चमत्कारों के अधिकार से कहीं बढ़कर है। वचन मनुष्य के हृदय में गहरे दबे सभी भ्रष्ट स्वभावों को उजागर कर देता है। तुम्हारे पास उन्हें अपने आप पहचानने का कोई उपाय नहीं है। जब उन्हें वचन के माध्यम से तुम्हारे सामने प्रकट किया जाता है, तब तुम्हें स्वाभाविक रूप से उनका पता चल जाएगा; तुम उनसे इनकार करने में समर्थ नहीं होगे, और तुम पूरी तरह से आश्वस्त हो जाओगे। क्या यह वचन का अधिकार नहीं है? यह आज वचन के कार्य द्वारा प्राप्त किया जाने वाला परिणाम है। इसलिए, बीमारी की चंगाई और दुष्टात्माओं को निकालने से मनुष्य को उसके पापों से पूरी तरह से बचाया नहीं जा सकता, न ही चिह्नों और चमत्कारों के प्रदर्शन से उसे पूरी तरह से पूर्ण बनाया जा सकता है। चंगाई करने और दुष्टात्माओं को निकालने का अधिकार मनुष्य को केवल अनुग्रह प्रदान करता है, किंतु मनुष्य का देह फिर भी शैतान से संबंधित होता है और भ्रष्ट शैतानी स्वभाव फिर भी मनुष्य के भीतर बना रहता है। दूसरे शब्दों में, जिसे शुद्ध नहीं किया गया है, वह अभी भी पाप और गंदगी से संबंधित है। केवल वचन के माध्यम से स्वच्छ कर दिए जाने के बाद ही मनुष्य को परमेश्वर द्वारा प्राप्त किया जा सकता है और वह पवित्र बन सकता है।"

परमेश्वर के शब्दों से, हम देख सकते हैं कि उस समय प्रभु यीशु ने छुटकारे का कार्य किया था और मानव जाति को पाप से बचाया था। प्रभु में विश्वास रखने के बाद, जब तक लोग उनके प्रति विश्वास और पश्चाताप करते हैं, तब तक उनके पाप क्षमा हो जाते थे। और वे शांति, आनंद और प्रचुर अनुग्रह का आनंद ले सकते थे। उस समय, परमेश्वर ने केवल मनुष्य के पापों को उनकी आवश्यकताओं के अनुसार, मनुष्य को शुद्ध करने के कार्य को करने के बजाय क्षमा किया। हमारे पापों को क्षमा कर दिया गया है और अब व्यवस्था द्वारा निंदा नहीं की जाती है। हालांकि, हम अभी भी बार-बार पाप करते हैं, और कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम कितनी कोशिश करते हैं, हम पापों के बंधन और बाधाओं से छुटकारा पाने में असमर्थ हैं। अंतिम दिनों में, आधारित प्रभु यीशु का कार्य पर, सर्वशक्तिमान परमेश्वर सत्य को व्यक्त करता है और परमेश्वर के घर से शुरू होने वाले न्याय का कार्य करता है, हमारे आंतरिक शैतानी भ्रष्ट स्वभाव को अपने शब्दों के माध्यम से उजागर करता है और न्याय करता है, ताकि हमें शैतानी अव्यवस्थाओं और सभी प्रकार के गलत दृष्टिकोणों की समझ हो सके निर्वासन अपने भीतर सभी प्रकार के भ्रष्टाऔ को, स्पष्ट रूप से देखें कि शैतान द्वारा हमें कितनी गहराई से भ्रष्ट किया गया है, हम कैसे अहंकार, दंभ, स्वार्थ, निराशा, कुटिलता, कपट, धोखेबाज़ी, बुराई, लालच, पापीपन, दुर्भावना और घृणा और सच्चाई से घृणा करते हैं। हमें सभी प्रकार की सच्ची मानवीय समानता की कमी है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों के न्याय और ताड़ना में, हमें शैतान द्वारा हमारे भ्रष्टाचार की सच्चाई का पता चलता है, शर्म आती है और दोषी महसूस करते हैं, और खुद से घृणा करने लगते हैं। इस बीच, हमें परमेश्वर के पवित्र का ज्ञान होता है। धर्मी और अपुष्ट स्वभाव का भी, और हमारे दिल में परमेश्वर के प्रति श्रद्धा का विकास करें। इस प्रकार, हमारे पास देह को त्यागने का संकल्प है, अब हमारी शारीरिक वरीयताओं का पालन न करें और स्वतंत्र रूप से पापों का त्याग करें, और इसके बजाय सत्य का अभ्यास करना और आवश्यकताओं के अनुसार आचरण करना शुरू करें। परमेश्‍वर के शब्दों में। सर्वशक्तिमान परमेश्वर के न्याय और ताड़ना में लगातार गुजरने से, हम धीरे-धीरे अपनी पापबुद्धि के मुद्दे को हल कर सकते हैं और वे बन सकते हैं जो सही मायने में परमेश्वर को मानते हैं और उनका सम्मान करते हैं। शब्दों के माध्यम से सर्वशक्तिमान परमेश्वर के न्याय के कार्य का परिणाम है। इसलिए, अंतिम दिनों में शब्दों के माध्यम से सर्वशक्तिमान परमेश्वर के कार्य का अनुभव करके ही हम अपने पापों के मुद्दे को हल कर सकते हैं और परमेश्वर के राज्य में प्रवेश कर सकते हैं। जैसा कि प्रकाशितवाक्य 22:14 में भविष्यवाणी की गई है। "धन्य वे हैं, जो अपने वस्त्र धो लेते हैं, क्योंकि उन्हें जीवन के पेड़ के पास आने का अधिकार मिलेगा, और वे फाटकों से होकर नगर में प्रवेश करेंगे।"

संपादक की टिप्पणी

क्या इस संगति ने आपको यह समझने में सक्षम किया है कि क्या परमेश्वर आपके द्वारा किए गए पापों को क्षमा कर रहा है? क्या अब आपको पाप के समाधान का रास्ता मिल गया है? यदि आप पाप को हल करने के लिए अभ्यास के विशिष्ट मार्ग के बारे में अधिक जानना चाहते हैं, तो कृपया हमसे संपर्क करने के लिए स्वतंत्र महसूस करें नीचे दिए गए ऑनलाइन बातचीत (चैट) बटन का उपयोग करें । हम आपके सवालों के उत्तर देने के लिए 24 घंटे ऑनलाइन हैं।

उत्तर यहाँ दें