ऑनलाइन बैठक

मेन्‍यू

उद्धार क्या है?

परमेश्वर का उद्धार मनुष्यों द्वारा आपस में एक-दूसरे को बचाने से अलग है; परमेश्वर का उद्धार मनुष्य की पतित आत्माओं को बचाने के लिए तैयार किया जाता है और उसके उद्धार की संपूर्णता में सत्य, मार्ग और जीवन शामिल है।

अगर हम परमेश्वर का उद्धार प्राप्त करना चाहते हैं, तो हमें पहले परमेश्वर के उद्धार को जानना चाहिए, अन्यथा हम इसे प्राप्त करने का अवसर खो देंगे। परमेश्वर के कार्य से अब हम धीरे-धीरे सीखेंगे कि परमेश्वर का उद्धार क्या है।

त्वरित नेविगेशन मेन्यू
व्यवस्था के युग में परमेश्वर द्वारा मनुष्य के लिए तैयार किया गया उद्धार
अनुग्रह के युग में परमेश्वर द्वारा मनुष्य के लिए तैयार किया गया उद्धार
अंत के दिनों में मनुष्य के लिए जो उद्धार परमेश्वर तैयार करता है

व्यवस्था के युग में परमेश्वर द्वारा मनुष्य के लिए तैयार किया गया उद्धार

कानून के युग में लोग नवजात थे और उन्हें यह नहीं पता था कि उन्हें कैसे जीना है या उन्हें परमेश्वर की आराधना कैसे करनी चाहिए। और इसलिए, परमेश्वर ने मनुष्य तक अपनी आज्ञाओं और व्यवस्थाओं की घोषणा करने के लिए मूसा का इस्तेमाल किया, जैसे कि सब्त को रखना, अपने माता-पिता का सम्मान करना, और यह भी कि किसी प्रकार की मूर्तिपूजा, व्यभिचार या चोरी नहीं होनी चाहिए। बलिदानों के चढ़ावे, भोजन ग्रहण करने, चोरी करने पर मुआवज़े के बारे में भी नियम थे और मवेशियों और भेड़ों को मारने के बारे में नियम थे, इत्यादि। इस तरह, लोग जो भी करते थे, उसमें उनके पास अपने कार्यों को निर्देशित करने के लिए सिद्धांत थे। जब लोग परमेश्वर के नियमों और व्यवस्थाओं का अपमान करते थे, तो उन्हें दंडित किया जाता था। लेकिन अगर वे परमेश्वर को चढ़ावा देते, पश्चाताप करते और फिर से अपने पापों को करने से बचते थे, तो परमेश्वर उन्हें उनके पाप कर्मों से मुक्त कर देता था। यहोवा ने अपनी व्यवस्थाओं की आज्ञाओं और नियमों का उपयोग मनुष्य को मर्यादा में रखने के लिए किया, और चूँकि मनुष्य यहोवा के वचनों को सुनते थे, उसकी आज्ञाओं और व्यवस्थाओं को बनाए रखते थे, इसलिए वे परमेश्वर द्वारा संरक्षित थे, और उन्होंने परमेश्वर के व्यवस्था के युग के उद्धार को प्राप्त किया।

अनुग्रह के युग में परमेश्वर द्वारा मनुष्य के लिए तैयार किया गया उद्धार

अनुग्रह के युग में परमेश्वर द्वारा मनुष्य के लिए तैयार किया गया उद्धार

व्यवस्था के युग का अंत आते आते, मनुष्य अधिकाधिक पतित होते जा रहे थे और वे अब व्यवस्था और आज्ञाओं का पालन नहीं करते थे। उन्होंने कई ऐसे काम किए जो परमेश्वर को नाराज़ करते थे, जैसे कि मूर्ति पूजा और व्यभिचार में संलग्न होना, दुष्ट योजनाएं बनाना, धोखा देना, छल करना, चोरी करना, धन लूटना, गबन करना, आदि, और यहाँ तक कि परमेश्वर को लंगड़े और अंधे कबूतरों, गायों और भेड़ों की बलि देना, और इस कारण परमेश्वर उनसे घृणा करता था। जैसा कि यिर्मयाह 14:10 में लिखा है, “यहोवा ने इन लोगों के विषय यह कहा: ‘इनको ऐसा भटकना अच्छा लगता है; ये कुकर्म में चलने से नहीं रुके; इसलिए यहोवा इनसे प्रसन्‍न नहीं है, वह इनका अधर्म स्मरण करेगा और उनके पाप का दण्ड देगा।‘”

और फिर भी परमेश्वर ने नहीं चाहा कि मानवजाति के सभी लोगों को उसकी व्यवस्थाओं द्वारा मृत्युदंड दिया जाए। इसलिए उसने मनुष्य के पुत्र—प्रभु यीशु—के रूप में देहधारण किया और एक बार फिर मानवजाति के लिए एक रास्ता खोला, व्यवस्था के युग का अंत कर अनुग्रह के युग में छुटकारे के कार्य की शुरुआत की। प्रभु यीशु जहाँ भी गया, वहाँ उसने अपने सुसमाचार का प्रचार किया, बीमारों को चंगा किया और दुष्टात्माओं को बाहर निकाला, मनुष्य पर बहुतायत से अनुग्रह की वर्षा की और उन्हें उनके पापों की क्षमा प्रदान की, ताकि मनुष्य के पापों को पूरी तरह से क्षमा किया जा सके। प्रभु यीशु को क्रूस पर चढ़ाया गया था, इस प्रकार वो मनुष्य की अनन्त पाप बलि बन गया और उसने अनुग्रह के युग में छुटकारे के कार्य को पूरा किया। अगर हम प्रभु यीशु के उद्धार को स्वीकार करते, उसके नाम से प्रार्थना करते, उसके समक्ष अपने पापों को स्वीकार करते और पश्चाताप करते, तो हमारे पापों को क्षमा किया जा सकता था और व्यवस्थाओं का अपमान के लिए अब हमें दोषी नहीं ठहराया जाना था या मौत की सजा नहीं दी जानी थी। यह अनुग्रह के युग में मनुष्य के लिए तैयार किया गया परमेश्वर का उद्धार था।

अंत के दिनों में मनुष्य के लिए जो उद्धार परमेश्वर तैयार करता है

बाइबल में यह अभिलिखित है, “जिनकी रक्षा परमेश्‍वर की सामर्थ्य से, विश्वास के द्वारा उस उद्धार के लिये, जो आनेवाले समय में प्रगट होनेवाली है, की जाती है” (1 पतरस 1:5)।

“वैसे ही मसीह भी बहुतों के पापों को उठा लेने के लिये एक बार बलिदान हुआ और जो लोग उसकी प्रतीक्षा करते हैं, उनके उद्धार के लिये दूसरी बार बिना पाप के दिखाई देगा” (इब्रानियों 9:28)।

“इस कारण अपनी-अपनी बुद्धि की कमर बाँधकर, और सचेत रहकर उस अनुग्रह की पूरी आशा रखो, जो यीशु मसीह के प्रगट होने के समय तुम्हें मिलनेवाला है” (1 पतरस 1:13)।

परमेश्वर का उद्धार

एक किताब में यह भी लिखा है कि “परमेश्वर के सलीब पर चढ़ने के कार्य की वजह से मनुष्य के पापों को क्षमा किया गया था, परन्तु मनुष्य पुराने, भ्रष्ट शैतानी स्वभाव में जीवन बिताता रहा। ऐसा होने के कारण, मनुष्य को भ्रष्ट शैतानी स्वभाव से पूरी तरह से बचाया जाना चाहिए ताकि मनुष्य का पापी स्वभाव पूरी तरह से दूर किया जाए और वो फिर कभी विकसित न हो, जो मनुष्य के स्वभाव को बदलने में सक्षम बनाये। इसके लिए मनुष्य के लिए आवश्यक है कि वह जीवन में उन्नति के पथ को, जीवन के मार्ग को, और अपने स्वभाव को परिवर्तित करने के मार्ग को समझे। साथ ही इसके लिए मनुष्य को इस मार्ग के अनुरूप कार्य करने की आवश्यकता है ताकि मनुष्य के स्वभाव को धीरे-धीरे बदला जा सके और वह प्रकाश की चमक में जीवन जी सके, और वो जो कुछ भी करे वह परमेश्वर की इच्छा के अनुसार हो, ताकि वो अपने भ्रष्ट शैतानी स्वभाव को दूर कर सके, और शैतान के अंधकार के प्रभाव को तोड़कर आज़ाद हो सके, और उसके परिणामस्वरूप पाप से पूरी तरह से ऊपर उठ सके। केवल तभी मनुष्य पूर्ण उद्धार प्राप्त करेगा।

प्रभु यीशु ने हमें छुटकारा दिलाया और हमारे पापों को क्षमायोग्य बनाया। लेकिन मनुष्य की पापी प्रकृति बनी रही, और हमारे भ्रष्ट स्वभाव हमारे भीतर गहरी जड़ें जमाए रहे, जैसे कि अभिमानी और घमंडी होना, स्वार्थी और घृणित होना, कुटिल और धोखेबाज होना, और केवल मुनाफा कमाने पर आमदा होना, आदि। चूँकि हम इन भ्रष्ट स्वभावों को धारण करते हैं इसी कारण हम अपने दोस्तों के साथ बहस कर सकते हैं, एक दूसरे पर संदेह कर सकते हैं, प्रसिद्धि और धन के लिए एक दूसरे के खिलाफ गुप्त रूप से साजिश रच सकते हैं, और हम अपने और अपने परिवार जनों के बीच विश्वास भी खो सकते हैं। जब बीमारी और विपत्ति का क्लेश हम पर पड़ता है, हम परमेश्वर को दोष देते हैं और उसे गलत समझते हैं; जब हम कड़ी मेहनत करते हैं, चीजों को देखते हैं, और खुद को बहुत अधिक खर्च करने के बाद परमेश्वर हमें आशीर्वाद नहीं देते हैं, तो हम अनजाने में शिकायत करते हैं; इत्यादि। हम एक ऐसा जीवन जीते हैं जिसके तहत हम दिन में पाप करते हैं और शाम को कबूल करते हैं। प्रभु यीशु ने एक बार कहा था, “मैं तुम से सच-सच कहता हूँ कि जो कोई पाप करता है, वह पाप का दास है। और दास सदा घर में नहीं रहता; पुत्र सदा रहता है” (यूहन्ना 8:34-35)। परमेश्वर पवित्र है और किसी भी कलंकित व्यक्ति को परमेश्वर के राज्य में प्रवेश की आज्ञा नहीं है। इसलिए, हमें उद्धार के एक अगले चरण की आवश्यकता है ताकि हमारे भ्रष्ट स्वभाव शुद्ध किये जा सकें और हम परमेश्वर द्वारा पूरी तरह बचाए जा सकें। प्रभु यीशु ने कहा है, “मुझे तुम से और भी बहुत सी बातें कहनी हैं, परन्तु अभी तुम उन्हें सह नहीं सकते। परन्तु जब वह अर्थात् सत्य का आत्मा आएगा, तो तुम्हें सब सत्य का मार्ग बताएगा, क्योंकि वह अपनी ओर से न कहेगा, परन्तु जो कुछ सुनेगा, वही कहेगा, और आनेवाली बातें तुम्हें बताएगा” (यूहन्ना 16:12-13)। “जो मुझे तुच्छ जानता है और मेरी बातें ग्रहण नहीं करता है उसको दोषी ठहरानेवाला तो एक है: अर्थात् जो वचन मैंने कहा है, वह अन्तिम दिन में उसे दोषी ठहराएगा” (यूहन्ना 12:48)। “जिसके कान हों, वह सुन ले कि पवित्र आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है” (प्रकाशितवाक्य 2:7)। परमेश्वर ने हमें पहले ही स्पष्ट रूप से बता दिया है कि अंतिम दिनों, वह हमें सभी सच्चाईयों का मार्गदर्शन करने और सभी रहस्यों को उजागर करने के लिए निर्णय का कार्य करने जा रहा है। और वह हमारे सभी भ्रष्टाचारों को साफ कर देगा, इसलिए हम अब दिन में पाप करने और रात को स्वीकार करने के जीवन नहीं जीएंगे। यह वह उद्धार है जिसे परमेश्वर ने अंतिम दिनों में हमारे लिए तैयार किया है।

यदि हम अंतिम उद्धार को प्राप्त करना चाहते हैं जो परमेश्वर ने अंतिम दिनों में हमारे लिए तैयार किया है, तो हमें खुले दिमाग से तलाश करना चाहिए, परमेश्वर की बातों को बारीकी से सुनना चाहिए, और परमेश्वर के अंतिम दिनों के कार्य की जांच करनी चाहिए जब हम सुनेंगे कि कोई परमेश्वर की वापसी कर चुका है और अपने घर से शुरू होने वाले निर्णय के काम का एक चरण कर रहा है। यह वैसा ही है जैसे जब पीटर, जॉन और अन्य लोगों ने मसीहा के आने की खबर सुनी, तो उन्होंने परमेश्वर की आवाज सुनने के लिए इसकी समुचित खोज की और इसकी जांच की, और इसलिए उन्हें प्रभु यीशु का उद्धार प्राप्त हुआ। यदि हम प्रभु की वापसी का स्वागत करना चाहते हैं और अंतिम दिनों का उद्धार करना चाहते हैं, तो हमें पिछली पीढ़ियों के प्रेरितों का अनुकरण करना चाहिए। जिस तरह यह रहस्योद्घाटन 3:20 में दर्ज किया गया है। “देख, मैं द्वार पर खड़ा हुआ खटखटाता हूँ; यदि कोई मेरा शब्द सुनकर द्वार खोलेगा, तो मैं उसके पास भीतर आकर उसके साथ भोजन करूँगा, और वह मेरे साथ।

हमारे ‘यीशु मसीह को जानना‘ पेज पर और अधिक पढ़ने के लिए आपका स्वागतहै, इसके अलावा, आप नीचे दी गई सामग्री के बारे में अधिक जान सकते हैं। ये प्रभु यीशु को जानने और उनके दूसरे आगमन का स्वागत करने में आपकी मदद करेंगे।