ऑनलाइन बैठक

मेन्‍यू

परमेश्वर के दैनिक वचन : परमेश्वर को जानना | अंश 107 परमेश्वर के दैनिक वचन : परमेश्वर को जानना | अंश 107
00:00/ 00:00

परमेश्वर के दैनिक वचन : परमेश्वर को जानना | अंश 107

00:00
00:00

हालाँकि परमेश्वर का कोप मनुष्य से छिपा हुआ और अज्ञात है, फिर भी वह कोई अपमान सहन नहीं करता

समस्त मानवजाति के प्रति, उस मानवजाति के प्रति जो कि मूर्ख और जाहिल है, परमेश्वर का व्यवहार मुख्य रूप से दया और सहनशीलता पर आधारित है। दूसरी ओर, उसका कोप अधिकांश समय और अधिकांश घटनाओं में छिपा रहता है, और मनुष्य उससे अनजान है। परिणामस्वरूप, परमेश्वर को अपना कोप व्यक्त करते हुए देखना मनुष्य के लिए कठिन है, और उसके कोप को समझना भी उसके लिए कठिन है। इसलिए मनुष्य परमेश्वर के कोप को हलके में लेता है। मनुष्य जब परमेश्वर के अंतिम कार्य और मनुष्य के लिए उसकी क्षमा और सहिष्णुता के कदम का सामना करता है—अर्थात्, जब परमेश्वर की दया की अंतिम घटना और अंतिम चेतावनी मनुष्य पर आती है—यदि लोग फिर भी उसी तरह से परमेश्वर का विरोध करते रहते हैं और पश्चाताप करने, अपने तौर-तरीके सुधारने या उसकी दया स्वीकार करने का कोई प्रयास नहीं करते, तो परमेश्वर आगे उन्हें अपनी सहनशीलता और धैर्य नहीं दिखाएगा। इसके विपरीत, उस समय परमेश्वर अपनी दया वापस ले लेगा। इसके बाद वह केवल अपना कोप ही भेजेगा। वह विभिन्न तरीकों से अपना कोप व्यक्त कर सकता है, वैसे ही, जैसे वह लोगों को दंड देने और नष्ट करने के लिए विभिन्न पद्धतियाँ इस्तेमाल करता है।

सदोम नगर का विनाश करने के लिए परमेश्वर द्वारा आग का इस्तेमाल करना मनुष्य या किसी अन्य चीज़ को पूरी तरह से नष्ट करने की उसकी तीव्रतम पद्धति है। सदोम के लोगों को जलाना उनके शरीर नष्ट करने से कहीं अधिक था; इसने पूरी तरह से उनकी आत्माएँ, उनके प्राण और उनके शरीर नष्ट कर दिए, और यह सुनिश्चित किया कि उस नगर के लोग न तो भौतिक संसार में अस्तित्व में रहें और न ही उस संसार में, जो मनुष्य के लिए अदृश्य है। यह परमेश्वर द्वारा अपना कोप प्रकाशित और अभिव्यक्त करने का एक तरीका है। इस तरह का प्रकाशन और अभिव्यक्ति परमेश्वर के कोप के सार का एक पहलू है, ठीक वैसे ही, जैसे यह स्वाभाविक रूप से परमेश्वर के धार्मिक स्वभाव के सार का प्रकाशन भी है। जब परमेश्वर अपना कोप भेजता है, तो वह कोई दया या प्रेममय करुणा प्रकट करना बंद कर देता है, न ही वह आगे कोई सहनशीलता या धैर्य प्रदर्शित करता है; कोई ऐसा व्यक्ति, वस्तु या कारण नहीं है, जो उसे धैर्य धारण किए रहने, फिर से दया करने, एक बार फिर अपनी सहनशीलता दिखाने के लिए राज़ी कर सके। इन चीज़ों के स्थान पर, एक पल के लिए भी हिचकिचाए बिना, परमेश्वर अपना कोप और प्रताप भेजता है, और जो कुछ चाहता है, वह करता है। इन चीज़ों को वह अपनी इच्छाओं के अनुरूप एक तीव्र और साफ़-सुथरे तरीके से करता है। यह वह तरीका है, जिससे परमेश्वर अपना वह कोप और प्रताप प्रकट करता है, जिसे मनुष्य द्वारा ठेस नहीं पहुँचाई जानी चाहिए, और यह उसके धार्मिक स्वभाव के एक पहलू की अभिव्यक्ति भी है। जब लोग परमेश्वर को मनुष्य के प्रति चिंता और प्रेम दिखाते हुए देखते हैं, तो वे उसके कोप को भाँपने में, उसके प्रताप को देखने में या अपमान के प्रति उसकी असहनशीलता अनुभव करने में असमर्थ होते हैं। इन चीज़ों ने हमेशा लोगों को विश्वास दिलाया है कि परमेश्वर का धार्मिक स्वभाव केवल दया, सहनशीलता और प्रेम का है। किंतु जब कोई परमेश्वर को किसी नगर का विनाश करते हुए या मनुष्य से घृणा करते हुए देखता है, तो मनुष्य के विनाश में उसका कोप और प्रताप लोगों को उसके धार्मिक स्वभाव के अन्य पक्ष की झलक देखने देता है। यह अपमान के प्रति परमेश्वर की असहिष्णुता है। परमेश्वर का कोई अपमान सहन न करने वाला स्वभाव किसी भी सृजित प्राणी की कल्पना से परे है, और ग़ैर-सृजित प्राणियों में से कोई उसके साथ दखलंदाज़ी करने या उसको प्रभावित करने में सक्षम नहीं है; और इसका प्रतिरूपण या अनुकरण तो किया ही नहीं जा सकता। इस प्रकार, परमेश्वर के स्वभाव का यह ऐसा पहलू है, जिसे मनुष्य को सबसे अधिक जानना चाहिए। केवल स्वयं परमेश्वर का ही ऐसा स्वभाव है, और केवल स्वयं परमेश्वर ही ऐसे स्वभाव से युक्त है। परमेश्वर का ऐसा धार्मिक स्वभाव इसलिए है, क्योंकि वह दुष्टता, अंधकार, विद्रोहशीलता और शैतान के बुरे कार्यों—जैसे कि मानवजाति को भ्रष्ट करना और निगल जाना—से घृणा करता है, क्योंकि वह अपने विरुद्ध पाप के सारे कार्यों से घृणा करता है और इसलिए भी, क्योंकि उसका सार पवित्र और निर्मल है। यही कारण है कि वह किसी भी सृजित या ग़ैर-सृजित प्राणी द्वारा खुला विरोध या स्वयं से मुकाबला सहन नहीं करेगा। यहाँ तक कि कोई ऐसा व्यक्ति भी, जिसके प्रति उसने किसी समय दया दिखाई हो या जिसका चुनाव किया हो, उसके स्वभाव को ललकार दे या उसके धीरज और सहनशीलता के सिद्धांत का उल्‍लंघन कर दे, तो वह थोड़ी-सी भी दया या संकोच दिखाए बिना, अपमान बरदाश्त न करने वाला अपना धार्मिक स्वभाव प्रकट और प्रकाशित कर देगा।

— 'वचन देह में प्रकट होता है' से उद्धृत

परमेश्वर का स्वभाव अपमान सहता नहीं

I

मानवता को पहले जानना चाहिए स्वभाव को जो सिर्फ है परमेश्वर के पास। यानि कि, कोई गुनाह न सहना। न कोई दे सके दखल, न प्रभावित कर सके। ये सबकी कल्पना से परे है, न प्रतिरूपित हो सके, न नकल की जा सके। परमेश्वर किसी को भी नहीं सहेगा जो उसका खुलकर विरोध करे, चाहे हों वे सृजे हुये प्राणी या न हों, चाहे हों चुनिन्दा या दया के पात्र हों। एक बार वे उसके स्वभाव को जब क्रोधित करें, या तोड़े उसके धैर्य के सिद्धान्त को, परमेश्वर प्रकट करेगा अपना स्वभाव, जो धार्मिक है, और जो सहे न कोई अपमान।

II

परमेश्वर का है ये स्वभाव उसके पवित्र और निर्मल सार की वजह से। वो नफरत करता है पापों से जो विरोध करे। वो नफरत करता है नाफ़रमानी से, और शैतान के बुराई द्वारा मानव को भ्रष्ट करने से। वो तिरस्कार करता है दुष्टता और अंधेरे का। परमेश्वर किसी को भी नहीं सहेगा जो उसका खुलकर विरोध करे, चाहे हों वे सृजे हुये प्राणी या न हों, चाहे हों चुनिन्दा या दया के पात्र हों। एक बार वे उसके स्वभाव को जब क्रोधित करें, या तोड़े उसके धैर्य के सिद्धान्त को, परमेश्वर प्रकट करेगा अपना स्वभाव, जो धार्मिक है, और जो सहे न कोई अपमान। परमेश्वर किसी को भी नहीं सहेगा जो उसका खुलकर विरोध करे, चाहे हों वे सृजे हुये प्राणी या न हों, चाहे हों चुनिन्दा या दया के पात्र हों। एक बार वे उसके स्वभाव को जब क्रोधित करें, या तोड़े उसके धैर्य के सिद्धान्त को, परमेश्वर प्रकट करेगा अपना स्वभाव, जो धार्मिक है, और जो सहे न कोई अपमान।

"मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना" से

अगर आप हर दिन बाइबल पढ़ने के बावजूद भी आत्मा को मुरझाते हुए पाते है! तो आप क्या कर सकते हैं? परमेश्वर के दैनिक वचन पर क्लिक करें या निम्नलिखित संबंधित सामग्री का आनंद लें।

उत्तर यहाँ दें