ऑनलाइन बैठक

मेन्‍यू

अगला

Hindi Christian Movie | मेरी जवानी की यादें | Based on a True Story (Trailer)

0 06/11/2021

झाओ शिनलियांग ने बचपन से ही अपने माता-पिता के साथ परमेश्वर में विश्वास किया है। फिर मई 2014 में, जब वह सिर्फ 20 साल का था, पुलिस एक सभा से उसे गिरफ्तार कर लेती है, उसे मत परिवर्तन के लिए सुधार केंद्र ले जाया जाता है, जहां लोगों को शिक्षा के ज़रिये सुधारा जाता है। पुलिस उसे कलीसिया को धोखा देने को मजबूर करने की कोशिश में यातना के सभी तरीके आजमाती है, जिसमें जलती हुई सिगरेट से उसके निप्पल और शरीर के निचले हिस्से को जलाना, चार केतली खौलता पानी उसके पूरे शरीर और जननांगों पर उड़ेलना शामिल है, जिसकी वजह से उसके पूरे शरीर पर छोटे-बड़े फोड़े बन जाते हैं, चमड़ी पर खून से सने छालों को देख पाना भी मुनासिब नहीं। अपनी असहनीय पीड़ा में, झाओ शिनलियांग मौत की कामना करने लगता है, मगर परमेश्वर के वचनों के प्रबोधन और मार्गदर्शन से, उसका विश्वास वापस आता है और उसमें पीड़ा सहने की हिम्मत आ जाती है, वह हर हाल में परमेश्वर के लिए गवाही देने का मन बना लेता है। उसके शरीर के जख्म ठीक होने से पहले ही, मत परिवर्तन करने वाली टीचरें शिफ्ट में काम करते हुए, उसका मत परिवर्तन करने की लगातार कोशिशें करती हैं। इस बीच पुलिस उसे लगातार डराने और धमकाने की कोशिश करती है, ताकि उसे परमेश्वर को ठुकराकर धोखा देने के लिए मजबूर किया जा सके। चीनी कम्युनिस्ट पुलिस और मत परिवर्तन करने वाले प्रशिक्षकों के इस क्रूर उत्पीड़न का सामना करते हुए, क्या झाओ शिनलियांग अंत में गवाही देने में सफल होता है? जाने के लिए देखें, "मेरी जवानी की यादें"।

उत्तर यहाँ दें