ऑनलाइन बैठक

मेन्‍यू

अगला

Hindi Christian Movie मेरी कहानी, हमारी कहानी | A Faith Testimony of Passing on God's Word in Prison

0 20/01/2023

एक कलीसिया अगुआ, यांग यी को सीसीपी के सामूहिक गिरफ्तारी अभियानों के दौरान गिरफ्तार कर लिया जाता है और दस साल जेल की सजा दी जाती है। सख्त निगरानी में और जेल के पहरेदारों की गुलामों जैसे श्रम की अपेक्षाओं के कारण, वह दुखी और पीड़ित महसूस करता है, परमेश्वर के वचनों की आपूर्ति के लिए तरसता है। एक दिन, उसके भाई-बहन जेल में उससे मिलने का जोखिम उठाते हैं, और वे परमेश्वर के वचनों की एक प्रति उसके लिए छिपाकर लाते हैं। जब यांग यी भूखों की तरह परमेश्वर के वचन पढ़ता है, तो उसे काफी प्रेरणा मिलती है; उसे अपनी पीड़ा और निराशा से निजात मिलती है। जब ईसाइयों पर सीसीपी का दमन और उत्पीड़न बहुत तेज हो जाता है, उसके ज्यादा से ज्यादा भाइयों को उसके साथ जेल में डाल दिया जाता है। यांग यी देखता है कि उनमें से कुछ लोग अपनी तकलीफों के कारण बीमार और निराश हैं, जबकि कुछ लोग जेल के पहरेदारों के दबाव में आकर परमेश्वर को ठुकराने के लिए तीन पत्रों पर दस्तखत कर देते हैं; इसके लिए, उन्हें अफसोस होता है और वे खुद को दोषी मानते हैं। यह देखकर, यांग यी अपने भाइयों का सहयोग और मदद करने के मौके ढूंढता है और उन्हें परमेश्वर के वचन बांटता है। जब उसके भाई परमेश्वर के वचन पढ़ते हैं, तो उन्हें आध्यात्मिक पोषण मिलता है; उन सभी को लगता है कि परमेश्वर के वचन बहुत कीमती हैं; तो वे फौरन अपनी-अपनी याद से परमेश्वर के वचनों के अंश लिखने और उन्हें एक दूसरे के साथ साझा करने का फैसला करते हैं, जिसकी वजह से ज्यादा से ज्यादा भाई परमेश्वर के वचन पढ़ पाते हैं। हालांकि, जेल के पहरेदारों की निगरानी और जासूसों की रिपोर्ट के कारण, पता चल जाता है कि यांग यी के भाइयों के पास परमेश्वर के वचन हैं, जिसके बाद पहरेदार उन्हें बेहद सख्त प्रबंधन में डाल देते हैं; उनसे पूछताछ की जाती है और यातना दी जाती है। फिर जेल के हर इलाके में बड़े पैमाने पर खोजबीन की जाती है। इस गंभीर हालात के बीच, भाइयों को आस्था की बड़ी परीक्षा से गुजरना पड़ता है...।

उत्तर यहाँ दें