ऑनलाइन बैठक

मेन्‍यू

अगला

Hindi Christian Testimony Video | भावनाओं का बंधन ढीला करना | True Story of a Christian

2,155 16/09/2020

मुख्य पात्र, कलीसिया की एक अगुआ, को कलीसिया के एक मतदान से पता चलता है कि भाई-बहनों ने शिकायत की है कि बहन ली काम में लगातार लापरवाह करती है; उन्होंने शिकायत की कि वह सत्य को स्वीकार नहीं करती, अभिमानपूर्ण तरीके से लोगों को भाषण देती है, और उन्हें विवश करती है। कलीसिया की अगुआ को अच्छी तरह पता है कि सत्य के सिद्धांतों के अनुसार, बहन ली को बर्खास्त किया जाना चाहिए, लेकिन वह शैतानी दर्शन के द्वारा भ्रष्ट और प्रभावित हो चुकी है, जैसे कि "पानी की तुलना में खून अधिक गाढ़ा होता है" और "मनुष्य निर्जीव नहीं है; वह भावनाओं से मुक्त कैसे हो सकता है?" यह सोचकर कि वे दोनों एक ही शहर से हैं और हमेशा घनिष्ट रहे हैं, वह अपनी भावनाओं से चलती है, बार-बार बहन ली का पक्ष लेती है और उसे बचाती है। बाद में, केवल परमेश्वर के वचनों के न्याय और प्रकटन के कारण, वह अपने कामों में भावनाओं पर आश्रित रहने की प्रकृति और परिणामों को देख पाने में सक्षम हो जाती है। इन शैतानी दर्शनों के बारे में उसे कुछ विवेक प्राप्त होता है और समस्याओं का सामना करते वक़्त अब वह भावनाओं पर भरोसा नहीं करती, बल्कि, सत्य के सिद्धांतों के अनुसार सजग होकर अभ्यास करती है।

उत्तर यहाँ दें