ऑनलाइन बैठक

मेन्‍यू

मैंने पाप से शुद्धि का मार्ग पा लिया है

रमादी, फिलिपीन्स

एक ऐसी ईसाई होने के नाते जिसने वर्षों से प्रभु पर विश्वास किया है, मैंने अक्सर पादरियों को उनके उपदेशों के दौरान यह कहते सुना है कि, “हम जैसे विश्वासियों को हमारे पापों से छुटकारा मिल चुका है और हम क्षमा पा चुके हैं। जब प्रभु वापस आयेंगे तो वह हमें सीधे स्वर्ग के राज्य में ले जायेंगे।" लेकिन जब मैं अधीर होकर प्रभु यीशु के लौटने और उनके द्वारा स्वर्ग के राज्य में ले जाये जाने की प्रतीक्षा कर रही थी, तब कुछ ऐसा हुआ जो मेरे लिए विशेष रूप से दर्दनाक और उलझन में डालने वाला था।

विश्वासी बनने के बाद, भले ही मैं अक्सर पवित्रशास्त्र पढ़ती थी, प्रार्थना करती, और सभाओं में भाग लेती थी, मेरे लिए असमंजस की बात यह थी कि मैं अक्सर अपने दिन-प्रतिदिन के जीवन में प्रभु की शिक्षाओं का पालन करने में स्वयं को असमर्थ पाती थी। मैं अच्छी तरह से जानती थी कि प्रभु ने हमें अपने पड़ोसी को खुद के समान प्यार करने और दूसरों को सात गुना सत्तर बार माफ करने का निर्देश दिया है, लेकिन हर बार जब मेरे पति मेरी बात नहीं मानते थे या मेरे आस-पास कोई व्यक्ति ऐसा काम करता जो मुझे पसंद नहीं है, तो मैं बस गुस्से से पागल सी हो जाती थी। हालाँकि मुझे गलती व पश्चाताप का एहसास होता था और मैं अक्सर प्रभु से प्रार्थना करती और पापस्वीकार करती थी, लेकिन जब भी मुझे इसी तरह की किसी अन्य स्थिति का सामना करना पड़ता था, तो इन सबके बावजूद मैं अपने आप को नियंत्रित कर ही नहीं पाती थी। इसके अलावा, मैं अभी भी अनजाने में झूठ बोला और धोखा दिया करती थी जब मेरे हितों पर कुछ होता था। जब परमेश्वर ने मुज़े आशीर्वाद दिया, तो परमेश्वर में मेरा विश्वास मजबूत है; अगर परमेश्वर ने मुझे आशीर्वाद नहीं दिया, तो मैं नकारात्मक हो जाऊंगी, इतना ही नहीं मैं नियमित रूप से प्रार्थना या सभा में भी नहीं जाती थी। मैं पाप में जी रहा थी। इस बारे में मैंने अपनी कलीसिया के दोस्तों से बात की, लेकिन सभी ने बस यही कहा कि जब तक मैं ज़्यादा प्रार्थना करती रहूंगी, प्रभु मुझ पर दया और प्रेम दिखाएंगे, वह मेरे पाप क्षमा करेंगे। मुझे उनके उत्तरों से कोई राहत नहीं मिली क्योंकि बाइबल में बहुत स्पष्ट रूप से बताया गया है: "सबसे मेल मिलाप रखो, और उस पवित्रता के खोजी हो जिसके बिना कोई प्रभु को कदापि न देखेगा" (इब्रानियों 12:14)। "क्योंकि सच्चाई की पहचान प्राप्त करने के बाद यदि हम जान-बूझकर पाप करते रहें, तो पापों के लिये फिर कोई बलिदान बाकी नहीं" (इब्रानियों 10:26)। यदि सभी के कहेनुसार, प्रभु हमें तब तक असीमित रूप से क्षमा करते रहेंगे जब तक हम उनसे प्रार्थना करते रहते हैं, तो बाइबल यह क्यों कहती है कि यदि हम सत्य का ज्ञान प्राप्त करने के बाद भी पाप करते हैं, तो पापों के लिए और कोई बलिदान बाकी नहीं रहेगा? पापों के बलिदान के बिना हम स्वर्ग के राज्य में कैसे प्रवेश कर सकते हैं? मुझे न इन सवालों का सिर समझ आ रहा था न पैर। मैं अक्सर इसे लेकर व्यथित रहती थी और प्रभु से प्रार्थना करती थी, ''हे प्रभु, मैं निरंतर पाप करने और फिर उन पापों को स्वीकार करने की स्थिति में जी रही हूँ; मैं बहुत परेशान हूँ। पाप के बंधनों से बचने के लिए मैं क्या कर सकती हूँ? मुझे इसका जवाब कहाँ मिल सकता है? प्रभु, कृपया मुझे बताएं कि इसमें आपकी क्या इच्छा है! आमीन।"

 पाप से बचने का एक मार्ग

फिर जनवरी 2018 में, मैं चीन की कुछ बहनों से ऑनलाइन मिली, उनके साथ बातचीत करके पता चला कि वे बहुत ही धर्मनिष्ठ ईसाई हैं। हमने विश्वास के बारे में सब प्रकार की बातें की और बातचीत की एक अवधि के बाद मैं खुद को उनके बहुत करीब महसूस करने लगी, मुझे लगा कि हम वास्तव में एक दूसरे से दिल खोल कर बातें कर सकते हैं। वे भी अपने जीवन में बहुत समर्पित थीं और बाइबल के बारे में उनकी अद्वितीय समझ और अंतर्दृष्टि थी। उनकी संगति वाकई रोशन करने वाली और आनंददायक थी—मुझे उनके साथ पवित्रशास्त्र के बारे में प्रलाप करना बहुत पसंद था।

एक बार बहन सुज़न ने मुझे बहुत गंभीरता से बताया, "प्रभु पहले ही वापस आ चुके हैं और वह मानवजाति को बचाने, शुद्ध करने और उनका न्याय करने का अंत का दिनों का कार्य कर रहे हैं।"

मैं यह सुनकर हैरान हो गयी, मैंने कहा, "प्रभु यीशु पहले ही क्रूस पर चढ़ाए गए थे, उन्होंने अपना कार्य पूरा करते हुए हमें हमारे पापों से छुटकारा दिलाया। जब प्रभु वापस आयेंगे तो क्या उन्हें हमें सीधे स्वर्ग के राज्य में नहीं ले जाना चाहिए? वह न्याय का कार्य भी क्यों करेंगे? क्या ऐसा हो सकता है कि उनका कार्य पूरा नहीं हुआ है?"

जवाब में, सिस्टर लूसी ने मेरे साथ यह संगति साझा की: "यह निश्चित रूप से सत्य है कि प्रभु यीशु का क्रूस चढ़ने का कार्य पूरा हो चुका है, हमें हमारे पापों से छुटकारा मिल चुका है और हम क्षमा पा चुके हैं। हालांकि, क्या छुटकारे का मतलब है कि हम स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर सकते हैं? आइए परमेश्वर के वचनों का एक अंश पढ़ें, फिर हम समझ जाएंगे। 'मनुष्य के पाप क्षमा कर दिए जाते थे, किंतु जहाँ तक इस बात का संबंध था कि मनुष्य को उसके भीतर के शैतानी स्वभावों से कैसे मुक्त किया जाए, तो यह कार्य अभी किया जाना बाकी था। मनुष्य को उसके विश्वास के कारण केवल बचाया गया था और उसके पाप क्षमा किए गए थे, किंतु उसका पापी स्वभाव उसमें से नहीं निकाला गया था और वह अभी भी उसके अंदर बना हुआ था। मनुष्य के पाप देहधारी परमेश्वर के माध्यम से क्षमा किए गए थे, परंतु इसका अर्थ यह नहीं था कि मनुष्य के भीतर कोई पाप नहीं रह गया था। पापबलि के माध्यम से मनुष्य के पाप क्षमा किए जा सकते हैं, परंतु मनुष्य इस समस्या को हल करने में पूरी तरह असमर्थ रहा है कि वह आगे कैसे पाप न करे और कैसे उसका भ्रष्ट पापी स्वभाव पूरी तरह से मिटाया और रूपांतरित किया जा सकता है। मनुष्य के पाप क्षमा कर दिए गए थे और ऐसा परमेश्वर के सलीब पर चढ़ने के कार्य की वजह से हुआ था, परंतु मनुष्य अपने पुराने, भ्रष्ट शैतानी स्वभाव में जीता रहा। इसलिए मनुष्य को उसके भ्रष्ट शैतानी स्वभाव से पूरी तरह से बचाया जाना आवश्यक है, ताकि उसका पापी स्वभाव पूरी तरह से मिटाया जा सके और वह फिर कभी विकसित न हो पाए, जिससे मनुष्य का स्वभाव रूपांतरित होने में सक्षम हो सके। इसके लिए मनुष्य को जीवन में उन्नति के मार्ग को समझना होगा, जीवन के मार्ग को समझना होगा, और अपने स्वभाव को परिवर्तित करने के मार्ग को समझना होगा। साथ ही, इसके लिए मनुष्य को इस मार्ग के अनुरूप कार्य करने की आवश्यकता होगी, ताकि उसका स्वभाव धीरे-धीरे बदल सके और वह प्रकाश की चमक में जी सके, ताकि वह जो कुछ भी करे, वह परमेश्वर की इच्छा के अनुसार हो, ताकि वह अपने भ्रष्ट शैतानी स्वभाव को दूर कर सके और शैतान के अंधकार के प्रभाव को तोड़कर आज़ाद हो सके, और इसके परिणामस्वरूप पाप से पूरी तरह से ऊपर उठ सके। केवल तभी मनुष्य पूर्ण उद्धार प्राप्त करेगा।'"

परमेश्वर के इन वचनों को पढ़ने के बाद, सिस्टर सुज़न ने संगति की: "हम परमेश्वर के वचनों से देख सकते हैं कि प्रभु यीशु ने जो कार्य किया वह छुटकारे का कार्य था। उन्होंने हमें पापों से बचाते हुए, हमारे पापों को क्षमा कर दिया। बचाए जाने का मतलब बस इतना है कि अब हम व्यवस्था बरकरार नहीं रख पाने और प्रभु के उद्धार के अनुग्रह को स्वीकार करने के कारण दोषी नहीं रह गये हैं। यह प्रभु के सामने आने, उनसे प्रार्थना करने, पापस्वीकार करने, पश्चाताप करने, प्रभु के अनुग्रह और आशीष का आनंद लेने के योग्य बनने को संदर्भित करता है। हालाँकि, हमारी पापी प्रकृति को दूर नहीं किया गया है। हम अभी भी पाप करने और फिर कबूल करने की स्थिति में जीते हैं। उदाहरण के लिए, अपने दैनिक जीवन में दूसरों के साथ अपनी बातचीत में, हम अक्सर एक अभिमानी स्वभाव प्रकट करते हैं, हमेशा चाहते हैं कि दूसरे लोग हमारी बात सुनें और हमारे अधीन हों। भले ही हम प्रभु में विश्वास करते हैं, लेकिन वास्तव में हमारे दिलों में उनका स्थान नहीं है। हमेशा की तरह, हम दुनिया की चीजों का लालच करते हैं और धर्मनिरपेक्ष रुझानों के पीछे भागते हैं। कुछ लोग तो अपने सांसारिक वैभव, ऐश्वर्य और देह के आनन्द को भोगने का अनुसरण करने के लिए परमेश्वर को पूरी तरह से त्याग भी देते हैं। पाप में रहने वाले हम जैसे लोग परमेश्वर के राज्य में प्रवेश करने के योग्य कैसे हो सकते हैं? प्रभु यीशु ने कहा है, 'मैं तुम से सच सच कहता हूँ कि जो कोई पाप करता है वह पाप का दास है। और दास सदा घर में नहीं रहता; पुत्र सदा रहता है’ (यूहन्ना 8:34-35)। प्रभु के वचन बहुत स्पष्ट हैं। पाप का कोई भी दास परमेश्वर के राज्य में नहीं रह सकता, चूँकि हम अक्सर पाप करते हैं, हम परमेश्वर के राज्य में प्रवेश करने के योग्य नहीं हैं। यही कारण है कि हमें अभी भी परमेश्वर के उद्धार के कार्य के एक और चरण की आवश्यकता है, ताकि हम अपने पापों से शुद्ध हो सकें और परमेश्वर के साथ संगत बन सकें। अन्यथा हम स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने के लिए परमेश्वर की स्वीकृति प्राप्त नहीं कर सकते हैं।"

परमेश्वर का हर एक वचन और उस बहन की संगति, मुझे गहराई से समझ आई। तो, प्रभु यीशु का कार्य वास्तव में केवल छुटकारे का कार्य था, ताकि प्रभु हमें पाप से मुक्त कर सकें; यह हमारे लिए प्रभु की दया थी, ताकि वे हमें अब से पापी के रूप में न देखें। लेकिन इसका मतलब यह नहीं था कि हम बिना पाप के और बेदाग हैं। हम अभी भी अक्सर न चाहते हुए पाप करते हैं, और यह सब इसलिए है क्योंकि हम में अभी भी पापी प्रकृति है। मैं अपने पति के साथ कैसे बात करती थी, इस बारे में सोचा—मैं चाहती थी कि वह हर बात में मेरी सुनें, अगर वे ऐसा नहीं करते थे तो मैं अपना आपा खो देती थी। भले ही मैं प्रार्थना करती और प्रभु के समक्ष कई बार पापस्वीकार करती थी, लेकिन मैं निरंतर पाप करती ही जा रही थी। यह सब इसलिए था क्योंकि मैं अपने शैतानी प्रकृति के नियंत्रण में थी। कोई आश्चर्य नहीं कि पौलुस ने यह कहा है: "क्योंकि मैं जानता हूँ, कि मुझ में अर्थात् मेरे शरीर में कोई अच्छी वस्तु वास नहीं करती, इच्छा तो मुझ में है, परन्तु भले काम मुझसे बन नहीं पड़ते" (रोमियों 7:18)। हमारी पापी प्रकृति हमारे भीतर अभी भी गहराई से घुसी हुई है, अगर हम सत्य का अभ्यास करना और परमेश्वर को संतुष्ट करना चाहें भी तो पाप और परमेश्वर का विरोध किये बिना नहीं रह सकते हैं। हम गन्दगी से भरे हैं और सच में परमेश्वर के राज्य में प्रवेश करने के योग्य नहीं हैं। जब मुझे इसका एहसास हुआ, तो मैंने पूछा, "आप कह रही हैं कि प्रभु यीशु ने छुटकारे का कार्य किया था, और जब प्रभु अंत के दिनों में आएंगे तो वह हमारे पापों से हमें छुटकारा दिलाने के लिए आयेंगे तो वे कार्य का एक चरण करेंगे। तो वह यह कार्य कैसे करेंगे?"

बहन सुज़न ने मुस्कुराते हुए कहा, "बहन, आपने अभी बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न पूछा है। वास्तव में, बाइबल में इस पर भविष्यवाणियाँ हैं, जैसे कि, 'यदि कोई मेरी बातें सुनकर न माने, तो मैं उसे दोषी नहीं ठहराता, क्योंकि मैं जगत को दोषी ठहराने के लिये नहीं, परन्तु जगत का उद्धार करने के लिये आया हूँ। जो मुझे तुच्छ जानता है और मेरी बातें ग्रहण नहीं करता है उसको दोषी ठहरानेवाला तो एक है: अर्थात् जो वचन मैंने कहा है, वह अन्तिम दिन में उसे दोषी ठहराएगा' (यूहन्ना 12:47-48)। 'क्योंकि वह समय आ पहुँचा है, कि पहले परमेश्‍वर के लोगों का न्याय किया जाए, और जब कि न्याय का आरम्भ हम ही से होगा तो उनका क्या अन्त होगा जो परमेश्‍वर के सुसमाचार को नहीं मानते?' (1 पतरस 4:17)। हम बाइबल के पदों से देख सकते हैं कि जब प्रभु अंत के दिनों में आयेंगे, तो वे उन सभी सत्यों को व्यक्त करेंगे जिनकी हमें ज़रूरत है ताकि हम सत्य को समझ सकें और उसमें प्रवेश कर सकें—यह प्रभु यीशु के छुटकारे के कार्य को आगे जारी रखना है, परमेश्वर के भवन से शुरू होने वाला न्याय के कार्य का चरण जो मनुष्य को शुद्ध और पूर्ण करने के लिए है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों के इन दो अंशों को पढ़ने के बाद यह स्पष्ट हो जाएगा। परमेश्वर के वचन कहते हैं, 'इस युग के दौरान परमेश्वर द्वारा किया जाने वाला कार्य मुख्य रूप से मनुष्य के जीवन के लिए वचनों का पोषण देना; मनुष्य के भ्रष्ट स्वभाव और उसकी प्रकृति के सार को उजागर करना; और धर्म संबंधी धारणाओं, सामंती सोच, पुरानी पड़ चुकी सोच, और मनुष्य के ज्ञान और संस्कृति को समाप्त करना है। इन सभी चीजों को परमेश्वर के वचनों द्वारा उजागर करने के माध्यम से शुद्ध किया जाना है।' 'अंत के दिनों में मसीह मनुष्य को सिखाने, उसके सार को उजागर करने और उसके वचनों और कर्मों की चीर-फाड़ करने के लिए विभिन्न प्रकार के सत्यों का उपयोग करता है। इन वचनों में विभिन्न सत्यों का समावेश है, जैसे कि मनुष्य का कर्तव्य, मनुष्य को परमेश्वर का आज्ञापालन किस प्रकार करना चाहिए, मनुष्य को किस प्रकार परमेश्वर के प्रति निष्ठावान होना चाहिए, मनुष्य को किस प्रकार सामान्य मनुष्यता का जीवन जीना चाहिए, और साथ ही परमेश्वर की बुद्धिमत्ता और उसका स्वभाव, इत्यादि। ये सभी वचन मनुष्य के सार और उसके भ्रष्ट स्वभाव पर निर्देशित हैं। खास तौर पर वे वचन, जो यह उजागर करते हैं कि मनुष्य किस प्रकार परमेश्वर का तिरस्कार करता है, इस संबंध में बोले गए हैं कि किस प्रकार मनुष्य शैतान का मूर्त रूप और परमेश्वर के विरुद्ध शत्रु-बल है। अपने न्याय का कार्य करने में परमेश्वर केवल कुछ वचनों के माध्यम से मनुष्य की प्रकृति को स्पष्ट नहीं करता; बल्कि वह लंबे समय तक उसे उजागर करता है, उससे निपटता है और उसकी काट-छाँट करता है। उजागर करने, निपटने और काट-छाँट करने की इन विधियों को साधारण वचनों से नहीं, बल्कि उस सत्य से प्रतिस्थापित किया जा सकता है, जिसका मनुष्य में सर्वथा अभाव है। केवल इस तरह की विधियाँ ही न्याय कही जा सकती हैं; केवल इस तरह के न्याय द्वारा ही मनुष्य को वशीभूत और परमेश्वर के प्रति समर्पण के लिए पूरी तरह से आश्वस्त किया जा सकता है, और इतना ही नहीं, बल्कि मनुष्य परमेश्वर का सच्चा ज्ञान भी प्राप्त कर सकता है। न्याय का कार्य मनुष्य में परमेश्वर के असली चेहरे की समझ पैदा करने और उसकी स्वयं की विद्रोहशीलता का सत्य उसके सामने लाने का काम करता है। न्याय का कार्य मनुष्य को परमेश्वर की इच्छा, परमेश्वर के कार्य के उद्देश्य और उन रहस्यों की अधिक समझ प्राप्त कराता है, जो उसकी समझ से परे हैं। यह मनुष्य को अपने भ्रष्ट सार तथा अपनी भ्रष्टता की जड़ों को जानने-पहचानने और साथ ही अपनी कुरूपता को खोजने का अवसर देता है। ये सभी परिणाम न्याय के कार्य द्वारा लाए जाते हैं, क्योंकि इस कार्य का सार वास्तव में उन सभी के लिए परमेश्वर के सत्य, मार्ग और जीवन का मार्ग प्रशस्त करने का कार्य है, जिनका उस पर विश्वास है। यह कार्य परमेश्वर के द्वारा किया जाने वाला न्याय का कार्य है।'"

बहन सुज़न ने अपनी संगति साझा करना जारी रखा। "परमेश्वर के वचन हमें दिखाते हैं कि अंत के दिनों में, वह न्याय का कार्य करने के लिए वचनों का उपयोग करते हैं। परमेश्वर के द्वारा व्यक्त किए गए सभी वचनों में उनके धर्मी स्वभाव के साथ उनका स्वरूप, उनके प्रबंधन योजना के रहस्य, मानवजाति के उद्धार के उनके उद्देश्य और इरादे निहित हैं। इसके अलावा, वे लोगों की पापमयता, परमेश्वर के विरोध के मूल, मनुष्य के भ्रष्टाचार के सत्य, साथ ही साथ मानवजाति के अंतिम गंतव्य और परिणाम को व्यक्त करते हैं—वे सत्य के इन सभी पहलुओं को समाहित करते हैं। ये सभी वचन हमारे जीवन के लिए जीविका प्रदान करते हैं। वे सभी जो अंत के दिनों में परमेश्वर के न्याय और ताड़ना के कार्य से गुजरते हैं, वे परमेश्वर द्वारा अपने दिलों के अंतरतम स्थान की छानबीन का अनुभव करते हैं। उनके वचन एक तेज तलवार की तरह हैं, जो परमेश्वर के खिलाफ विश्वासघात की हमारी शैतानी प्रकृति और हमारे दिलों के घृणित इरादों को काटते और प्रकट करते हैं। यहाँ तक कि वे हमारे दिलों की बिल्कुल गहराई में छिपी शैतानी सोच को भी उजागर करते हैं जिसका दूसरों को पता नहीं है। इससे हमें पता चलता है कि शैतान ने हमें कितनी गहराई तक छोटे-बड़े तरीकों से भ्रष्ट किया है, छोटे तरीकों से जैसे कि अपने जीवन में दूसरों के साथ व्यवहार और पेश आने में, और बड़े तरीकों से जैसे कि विश्वास पर हमारे दृष्टिकोण और यह तथ्य कि हम जो मार्ग अपनाते हैं वो पूरी तरह शैतान के सांसारिक दर्शन और जीते रहने के नियमों पर निर्भर है। उनके वचनों के माध्यम से, हम देखते हैं कि हमारी प्रकृति में घमंड, कुटिलता, छल, लालच, बुराई, स्वार्थ और तुच्छता भरे हुए हैं, और हम में से जो परमेश्वर में विश्वास करते हैं, वे भी बस आशीष पाने के लिए, पुरस्कृत होने के लिए विश्वास करते हैं। हमें एहसास होता है कि यह सत्य का अनुसरण करना, जीवन प्राप्त करना, या एक सच्ची मानवीय समानता को जीना बिलकुल नहीं है, और हम वास्तव में परमेश्वर के सामने रहने के योग्य नहीं हैं। तब हम पश्चाताप करने लगते हैं और अपने दिलों की गहराई से खुद से नफरत करने लगते हैं। इसी समय, हमारे पास परमेश्वर के वचनों के अधिकार और शक्ति के साथ-साथ उनके धर्मी, पवित्र और अलंघनीय स्वभाव का बहुत गहरा अनुभव भी होता है; और हम खुद को परमेश्वर के सामने दंडवत करने, उनसे पश्चाताप करने, अपने तरीके बदलने और अपने शैतानी प्रकृतियों का पता लगाने से नहीं रोक पाते हैं। इस प्रकार हमें परमेश्वर के न्याय और ताड़ना को स्वीकार करने, सत्य को अमल में लाने, और परमेश्वर को संतुष्ट करने के लिए नए लोग बनने का संकल्प लेने में खुशी होती है।"

बहन लूसी ने भावना से ओतप्रोत होकर कहा, "यह सच है! यदि परमेश्वर के वचनों का प्रकाशन और न्याय नहीं होता, तो हम वास्तव में कभी भी अपने स्वयं के भ्रष्ट स्वभावों, प्रकृतियों और सार को नहीं जान पाते। हम स्पष्ट रूप से बहुत भ्रष्ट हैं, फिर भी हमें लगता है कि हम सम्माननीय हैं, और हमें लगता है कि हम प्रभु द्वारा स्वर्ग के राज्य में ले जाये जाने के योग्य हैं। मैं हमेशा खुद को एक स्नेहशील, सौम्य व्यक्ति मानती थी; मैं कभी किसी के साथ बहस नहीं करती थी। और जब मैं विश्वासी हो गयी तो मैं बहुत अच्छे व्यवहार से युक्त थी और बहुत सारी अच्छी चीजें करती थी, इसलिए मुझे लगता था कि मैं एक अच्छी व्यक्ति हूँ और जब प्रभु आएंगे, तो मुझे सीधे स्वर्ग के राज्य में ले जाया जाएगा। लेकिन अंत के दिनों के सर्वशक्तिमान परमेश्वर के कार्य को स्वीकार करने के बाद, परमेश्वर के वचनों ने जो उजागर किया बस उसके माध्यम से ही मैंने स्पष्टता से देखा कि मेरा 'अच्छा' होना सिर्फ दिखावे के लिए है, और मैं वास्तव में अच्छी नहीं हूँ। उन चीजों को करने के पीछे मेरी प्रेरणा, दूसरों की प्रशंसा हासिल करना था, लोगों का आदर पाना था। जिस तरह से मैं आचरण करती थी वह दूसरों की आंखों में एक आदर्श छवि स्थापित करने के लिए था। साथ ही, मैं प्रभु की शिक्षाओं का उल्लंघन करती थी और हर मोड़ पर परमेश्वर के प्रति विद्रोही और चोट पहुँचाने वाली थी, साथ ही घमंडी और किसी की बात न सुनने वाली थी। मैं झूठ भी बोलती थी और अपने हित के लिए गलत काम करती थी। लोगों के दिलों में स्थान के लिए परमेश्वर के साथ संघर्ष करते हुए, मैं अक्सर अपने आप को ऊँचा उठाती थी और स्वयं की गवाही देती थी। मैं प्रमुख दूत की राह पर चल रही थी। जब मैंने इस बारे में सोचा, तो मुझे वाकई शर्म और ग्लानि महसूस हुई; मैं खुद से घृणा और नफरत करने लगी। मैंने फिर कभी डींगें नहीं मारीन कि मैं कितनी अच्छी हूँ, और न ही मैंने खुद को स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने के योग्य माना। इसके बजाय, मैं वास्तव में, परमेश्वर के वचनों के न्याय और ताड़ना को स्वीकार करने और अपने भ्रष्ट स्वभाव को उतार फेंकने के लिए दिल से तैयार हो गयी। यह परमेश्वर के वचन थे जिन्होंने मुझे मेरी धारणाओं और कल्पनाओं से जगाया, मुझे मेरी वास्तविक स्थिति को पहचानने, और सत्य और स्वभाव के परिवर्तन के अनुसरण के मार्ग पर चलाया। यह सब अंत के दिनों के परमेश्वर के कार्य का फल था।"

ईसाई प्रार्थना

मैं बहनों की संगति से वाकई बहुत द्रवित हुई—इसने मुझे दिखा दिया कि मैं अपनी धारणाओं और कल्पनाओं में जकड़ी हुई थी और बहुत स्पष्ट रूप से हर समय पाप कर रही थी, इन सबके बावजूद भी मैं प्रभु के लौटने और मुझे स्वर्ग के राज्य में ले जाने का इंतजार कर रही थी। यह वाकई अवास्तविक है। मैं परमेश्वर को धन्यवाद देती हूँ कि बहनों की, परमेश्वर के न्याय के कार्य और उनके अनुभव की गवाही के माध्यम से उन्होंने मुझे पाप के बंधनों को दूर फेंकने का व्यावहारिक मार्ग दिखाया। मेरा मानना है कि जब तक मैं परमेश्वर के न्याय के कार्य को स्वीकार करती हूँ, उससे होकर गुज़रती हूँ, मैं पाप से शुद्ध की जा सकती हूँ और मेरे पास स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने का मौका है।

मैंने खुशी से कहा, "प्रभु का धन्यवाद! भले ही मैंने अभी तक सर्वशक्तिमान परमेश्वर के न्याय के कार्य का अनुभव नहीं किया है, लेकिन मैं आपके अनुभव के माध्यम से, हमारे लिए परमेश्वर के प्रेम और उद्धार को वास्तव में महसूस कर सकती हूँ। अब से, मैं आप दोनों के साथ अधिक संवाद करना चाहूँगी ताकि मैं सर्वशक्तिमान परमेश्वर के कार्यों, और आपके अनुभवों और गवाहियों के बारे में अधिक समझ सकूँ।" यह सुनकर वे रोमांचित हो गए।

उन बहनों के साथ कुछ समय तक खोज करने, जांच करने और सभा करने के बाद, मुझे सत्य के बारे में ज़्यादा से ज़्यादा समझ मिली। मैंने अंत में यह निर्धारित किया कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर ही वास्तव में लौटे हुए प्रभु यीशु हैं, इसलिए मैंने अंत के दिनों के उनके कार्य को सहर्ष स्वीकार कर लिया—मुझे अपने हृदय के भीतर बहुत गर्माहट का एहसास हुआ। मेरा मानना है कि परमेश्वर ने मुझ पर बहुत अनुग्रह किया है। उन्होंने न केवल मेरी प्रार्थनाओं का जवाब दिया, बल्कि उनकी वाणी सुनने और बुद्धिमान कुंवारियों में से एक बनने में मेरी अगुआई की है। परमेश्वर का धन्यवाद! सारी महिमा सर्वशक्तिमान परमेश्वर की हो। आमीन!

उत्तर यहाँ दें