ऑनलाइन बैठक

मेन्‍यू

बाइबल की भविष्यवाणियाँ: अंत के दिनों में प्रभु की वापसी की 5 बाइबल भविष्यवाणियाँ पूरी हो चुकी हैं

अंत के दिनों में बहुत से लोग प्रभु यीशु के आने की सतर्कता से प्रतीक्षा कर रहे हैं, बहुत से लोग प्रभु यीशु को रोते हुए पुकार रहे हैं, और बहुत से लोग प्रभु यीशु के दूसरी बार आने के संकेत खोज रहे हैं, लेकिन वे बिना किसी मार्गदर्शन के बहुत उलझन में हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? मत्ती 24 के कुछ पदों को शामिल करते हुए, आइए आज हम यीशु के दूसरी बार आने के 5 संकेतों के बारे में चर्चा करें, ताकि आप स्पष्ट रूप से देख सकें कि प्रभु की वापसी से संबंधित भविष्यवाणियां साकार हो रही हैं और आप प्रभु का स्वागत करने का मार्ग खोज सकें।

पहला चिन्ह : झूठे मसीहों का दिखाई देना

मत्ती 24:4-5 में यह कहता है: "सावधान रहो! कोई तुम्हें न बहकाने पाए। क्योंकि बहुत से ऐसे होंगे जो मेरे नाम से आकर कहेंगे, 'मैं मसीह हूँ', और बहुतों को बहका देंगे।"

प्रभु की भविष्यवाणी से हम समझ सकते हैं कि जब यीशु मसीह दोबारा आते हैं, तो यहां बहुत से झूठे मसीह उठ खड़े होते हैं और अपने आपको यीशु मसीह के नाम से दर्शाते हैं। क्या यह लक्षण दिखाई दिया है? आज अंत के दिनों के दौरान कुछ झूठे मसीह जो अपने आपको मसीह बताते हैं, एक के बाद एक दक्षिण कोरिया चीन और जापान जैसे देशों में प्रकट हो चुके है। वे संदर्भ से हटकर बात करते हुए बाइबल की गलत व्याख्या करते हैं, प्रभु यीशु के नाम का स्वांग रचते हैं, और कुछ शब्द कहते हुए लोगों को आशीष देते हैं और उनसे वादे करते हैं, और साथ ही प्रभु यीशु की नकल करते हुए चमत्कारों का प्रदर्शन करने, बीमारों को ठीक करने, दुष्ट आत्माओं को भगाने जैसे काम करते हैं, ताकि लोगों को धोखा दिया जा सके। लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि झूठे मसीह किस तरह से अपने आपको दर्शाते हैं उनमें से कोई भी उस कार्य को नहीं कर सकता जो लौट हुए प्रभु करते हैं जिसके बारे में प्रकाशितवाक्य में भविष्यवाणी की गई है, जैसेकि कलीसिया से बातें करना, सात मुहरों को तोड़कर पुस्तक को खोलना, सभी संप्रदायों को एकजुट करना, भेड़ को बकरियों से अलग करना, अच्छे को पुरस्कृत करना और दुष्टों को दंडित करना। इसके अतिरिक्त प्रभु यीशु ने भविष्यवाणी की थी कि अंत के दिनों में सत्य का आत्मा आएगा और हमें वे सभी सत्य बताएगा जो हम नहीं समझते हैं। सिर्फ मसीह ही सत्य व्यक्त कर सकते हैं, झूठे मसीह कभी नहीं। झूठे मसीहों के पास परमेश्वर का सार नहीं होता, इसलिए वे उन सत्यों को व्यक्त नहीं कर सकते जो हमें जीवन प्रदान करते हैं, और वे स्वयं परमेश्वर का कार्य भी नहीं कर सकते। वे सिर्फ कुछ संकेतों और चमत्कारों पर निर्भर रहते हैं और लोगों को धोखा देने के लिए उनक उपयोग करते हैं। ये सभी झूठे मसीहों के लक्षण हैं। जैसेकि प्रभु यीशु ने हमें मत्ती 24:24 ने बताया है : "क्योंकि झूठे मसीह और झूठे भविष्यद्वक्ता उठ खड़े होंगे, और बड़े चिन्ह और अद्भुत काम दिखाएँगे, कि यदि हो सके तो चुने हुओं को भी बहका दें।" इससे हम देख सकते हैं कि झूठे मसीहों के संकेत, जो अंत के दिनों में प्रकट होने थे वे प्रकट हो चुके हैं, और वे लोग जो सिर्फ कुछ चिन्हों और चमत्कारों का उपयोग करके लोगों को धोखा देते हैं, उनके बारे में कोई शक नहीं है कि वे झूठे मसीह हैं। और हम सभी को यह जानना चाहिए कि बिना सच्चे मसीह के वापस आए यहां कोई झूठा मसीह भी नहीं हो सकता, यह एक आधारभूत ज्ञान है कि सच्चे और झूठे एक साथ अस्तित्व में होते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि जब सच्चे मसीह का आगमन होता है तभी झूठे मसीह भी प्रकट होते हैं।

क्या आपको पता है की यीशु के दूसरी बार आने के ये 5 संकेत प्रकट हो चुके हैं?

दूसरा चिन्ह: युद्ध और आपदाएं

मत्ती 24:6-8 में यह कहता है: "तुम लड़ाइयों और लड़ाइयों की चर्चा सुनोगे; देखो घबरा न जाना क्योंकि इनका होना अवश्य है, परन्तु उस समय अन्त न होगा। क्योंकि जाति पर जाति, और राज्य पर राज्य चढ़ाई करेगा, और जगह-जगह अकाल पड़ेंगे, और भूकम्प होंगे। ये सब बातें पीड़ाओं का आरम्भ होंगी।"

ये भविष्यवाणियाँ हमें बताती हैं कि जब प्रभु वापस आते हैं, तो उस समय अवश्य ही युद्ध, अकाल और भूकंप होंगे। 21वीं सदी में प्रवेश करते हुए, हम अक्सर युद्धों के बारे में सुनते हैं, जैसेकि अफगानिस्तान में युद्ध, इराक में युद्ध, इस्राएल और उसके आसपास के देशों के बीच युद्ध और सीरिया में युद्ध। जहाँ तक अकाल की बात है, 2003 के बाद से, कई जगहों पर एक के बाद एक खाद्य संकट का सामना करना पड़ा है, जैसे सूडान का दारफुर, अफ्रीका का हॉर्न, और बर्मा, अफगानिस्तान, केन्या और अन्य देशों में भी। 2020 की फरवरी में, पूर्वी अफ्रीका में 25 वर्षों में सबसे भयानक टिड्डियों का आक्रमण हुआ : 40 करोड़ टिड्डियों ने केवल एक दिन में लगभग 35 हजार लोगों का भोजन खा लिया, जिसके परिणामस्वरूप कई देशों को गंभीर खाद्य संकट का सामना करना पड़ा। बाद में टिड्डियों ने भारत और पाकिस्तान को घेर लिया। इसके अलावा, भूकंप आते रहे हैं: 2004 में हिंद महासागर की सुनामी, 2008 में चीन में वेनचुआन भूकंप, 2010 में हैती में भूकंप, 2015 में नेपाल में 8.1-तीव्रता का भूकंप, 2018 में इंडोनेशिया में भूकंप, 2020 में कैरिबियन में भूकंप, इत्यादि। क्या यह आपदाओं की शुरुआत नहीं हैं? इससे भी बढ़कर, 2019 से वैश्विक महामारी भी तेजी से फैल गई, और इसने दुनिया के कई देशों को अपनी चपेट में ले लिया। इन तथ्यों से हम निश्चित हो सकते हैं कि प्रभु यीशु की भविष्यवाणी पूरी हो गई है।

तीसरा चिन्ह: अधर्म बहुत अधिक बढ़ना और विश्वासियों का प्रेम ठंडा पड़ना

मत्ती 24:12 कहता है: "और अधर्म के बढ़ने से बहुतों का प्रेम ठण्डा हो जाएगा।"

प्रभु की भविष्यवाणी से हम देख सकते हैं कि के अंत के दिनों में धार्मिक दुनिया में अधर्म बढ़ेगा। आइए धार्मिक दुनिया की तत्काल स्थिति को देखें: कुछ पादरी और एल्डर प्रभु के वचनों का अभ्यास करने में अपने विश्वासियों की अगुवाई करने पर ध्यान केंद्रित नहीं करते हैं, बल्कि इसके बजाय सांसारिक प्रवृत्तियों का पालन करते हैं, धन का लालच करते हैं, अनुयायियों को अमीर बनने और सांसारिक मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करते हैं; कुछ पादरी केवल अपनी हैसियत की रक्षा करने की परवाह करते हैं, सहकर्मियों के साथ होड़ करते हैं और ईर्ष्यापूर्ण विवादों में शामिल होते हैं, इतना अधिक कि वे गुट भी बना लेते हैं; कुछ तो परमेश्वर को चढ़ावे को हड़प लेते हैं और यौन दुराचार में संलग्न होते हैं, बुरे काम करने वाले पूरी तरह से परमेश्वर विरोधी बन जाते हैं। कुछ संप्रदाय एक-दूसरे का न्याय और निंदा भी करते हैं, और विश्वासियों को नियंत्रित करने के लिए सदस्यता योजनाओं को अंजाम देते हैं। अधर्म में वृद्धि के कारण, विश्वासी आपूर्ति प्राप्त करने में असमर्थ हैं, और इस प्रकार परमेश्वर की आराधना करने और प्रभु के लिए कार्य करने के बारे में कोई विचार नहीं करते हैं और सांसारिक उलझनों में उलझे रहते हैं। इसके अलावा, जब वे कलीसिया की सभाओं में शामिल होते हैं, तो कई लोग मौज-मस्ती का हिस्सा बनने, धार्मिक समारोह करने, अपना सामान बेचने या कल्पित साथी ढूंढने के लिए जाते हैं। व्यवस्था के युग के अंत के बारे में सोचें: वह मंदिर जो पहले कभी यहोवा परमेश्वर की महिमा से भरा हुआ करता था, उजाड़ दिखाई दिया, और याजकों ने तुच्छ बलिदान किए और मंदिर को बाज़ार के रूप में बदल दिया, परमेश्वर के मार्ग से पूरी तरह से भटक गए और उसके प्रति कोई श्रद्धा नहीं था। क्या आज की कलीसियाओं और व्यवस्था के युग के अंत के मंदिर के बीच कोई अंतर है? इन सभी बातों में, प्रभु की इस भविष्यवाणी की पूरा हुआ यह स्पष्ट है।

चौथा चिन्ह: पृथ्वी की छोर तक सुसमाचार का प्रसार होना

मत्ती 24:14 में दर्ज: "और राज्य का यह सुसमाचार सारे जगत में प्रचार* किया जाएगा, कि सब जातियों पर गवाही हो, तब अन्त आ जाएगा।"

यह भविष्यवाणी हमें बताती है कि अंत के दिनों में यीशु के दूसरे आगमन का एक संकेत यह है कि दुनिया के सभी राष्ट्र प्रभु यीशु के सुसमाचार को सुनेंगे। जब प्रभु यीशु को सूली पर चढ़ाया गया और छुटकारे का अपना कार्य पूरा किया, तो पवित्र आत्मा ने परमेश्वर के चुने हुए लोगों को प्रभु यीशु की गवाही देने के लिए मार्गदर्शन देना शुरू किया। प्रेरितों ने प्रभु यीशु मसीह के नाम का प्रचार सीरिया, एशिया, मैसेडोनिया, रोमा और अन्य जगहों पर करना शुरू कर दिया। इस प्रकार ईसाई कलीसियाओं का उदय हुआ, जैसे बारिश के बाद अंकुर उग आए, और इन क्षेत्रों में स्थापित हो गया। उसके बाद, ईसाइयों को रोमन साम्राज्य से उत्पीड़न का सामना करना पड़ा और उन्हें पूरी दुनिया में निर्वासन में जाना पड़ा। नतीजतन, सुसमाचार पूरी पृथ्वी पर फैल गया। आज, प्रभु यीशु का सुसमाचार पूरे ब्रह्मांड में फैल गया है, ईसाई दुनिया भर में पाए जा सकते हैं और कई लोकतांत्रिक देशों ने ईसाई धर्म को अपने राज्य धर्म के रूप में अपनाया है। चीन में भी, जहां नास्तिक पार्टी सत्ता में है, बहुत से लोगों ने प्रभु यीशु के सुसमाचार को स्वीकार किया है। यह स्पष्ट है कि प्रभु की यह भविष्यवाणी पूरी हो गई है।

पांचवा चिन्ह: इज़राइल की बहाली

यह मत्ती 24:32-33 में दर्ज है: "अंजीर के पेड़ से यह दृष्टान्त सीखो जब उसकी डाली कोमल हो जाती और पत्ते निकलने लगते हैं, तो तुम जान लेते हो, कि ग्रीष्मकाल निकट है। इसी रीति से जब तुम इन सब बातों को देखो, तो जान लो, कि वह निकट है, वरन् द्वार पर है।"

जैसा कि प्रभु में विश्वास करने वाले सभी लोग जानते हैं, "अंजीर का पेड़" इस्राएल को संदर्भित करता है, और अंजीर का पेड़ अपनी पत्तियों को फैलाना इस्राएल की बहाली को दर्शाता है। दरअसल, इजराइल को 14 मई 1948 को बहाल किया गया था और उसके अगले साल औपचारिक तौर पर संयुक्त राष्ट्र के सदस्य के रूप में स्वीकार कर लिया गया था। यह स्पष्ट है कि प्रभु यीशु के दूसरे आगमन की यह भविष्यवाणी भी पूरी हो चुकी है।

हम उपरोक्त तथ्यों से यह निर्धारित कर सकते हैं कि प्रभु यीशु के दूसरे आगमन की भविष्यवाणियां पहले ही पूरी हो चुकी हैं और प्रभु बहुत पहले लौट आए हैं। इस समय, कुछ भाइयों और बहनें पूछ सकते हैं: "यदि प्रभु लौट आए हैं, तो हमने अभी तक उनका स्वागत क्यों नहीं किया?" यदि हम प्रभु का स्वागत करना चाहते हैं, तो हमें पहले यह जानना होगा कि प्रभु अपनी वापसी पर क्या कार्य करेंगे। प्रभु यीशु ने भविष्यवाणी की: "मुझे तुम से और भी बहुत सी बातें कहनी हैं, परन्तु अभी तुम उन्हें सह नहीं सकते। परन्तु जब वह अर्थात् सत्य का आत्मा आएगा, तो तुम्हें सब सत्य का मार्ग बताएगा, क्योंकि वह अपनी ओर से न कहेगा, परन्तु जो कुछ सुनेगा, वही कहेगा, और आनेवाली बातें तुम्हें बताएगा" (यूहन्ना 16:12-13)। "यदि कोई मेरी बातें सुनकर न माने, तो मैं उसे दोषी नहीं ठहराता, क्योंकि मैं जगत को दोषी ठहराने के लिये नहीं, परन्तु जगत का उद्धार करने के लिये आया हूँ। जो मुझे तुच्छ जानता है और मेरी बातें ग्रहण नहीं करता है उसको दोषी ठहरानेवाला तो एक है: अर्थात् जो वचन मैंने कहा है, वह अन्तिम दिन में उसे दोषी ठहराएगा" (यूहन्ना 12:47-48)। "सत्य के द्वारा उन्हें पवित्र कर: तेरा वचन सत्य है" (यूहन्ना 17:17)। और यह 1 पतरस 4:17 में कहता है: "क्योंकि वह समय आ पहुँचा है, कि पहले परमेश्‍वर के लोगों का न्याय किया जाए।" हम इन वचनों से समझ सकते हैं कि जब प्रभु अंत के दिनों में वापस आएंगे, तो वह परमेश्वर के घर से शुरू होने वाले न्याय के कार्य को करेंगे और मनुष्य का न्याय करने के लिए सत्य व्यक्त करेंगे, हमारे लिए पाप से शुद्ध होने का मार्ग बताएंगे। ये वे सत्य हैं जिन्हें पहले कभी प्रभु यीशु ने अनुग्रह के युग में नहीं कहा था, और वह कार्य जो उन्हें अभी तक करना था। इसलिए, जब तक कोई इस बात की गवाही देता है कि प्रभु वापस आ गए हैं, और यह कि वह सत्य व्यक्त कर रहे हैं और परमेश्वर के घर से शुरू होने वाला न्याय का कार्य कर रहे हैं, हमें खोज और जांच करने की पहल करनी चाहिए। जब तक हम सुनिश्चित हैं कि इस मार्ग में सत्य है और हमें हमारे पापों को शुद्ध करने का मार्ग दिखा सकते हैं, क्या यह प्रभु का स्वागत करना नहीं है?

आज दुनिया में, केवल सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया ही इस बात की गवाही देती है कि प्रभु पहले ही सर्वशक्तिमान परमेश्वर के रूप में वापस, अंत के दिनों के मसीह आ चुके हैं। प्रभु यीशु के छुटकारे के कार्य के आधार पर, सर्वशक्तिमान परमेश्वर सत्य को व्यक्त करते हैं और एक चारण का कार्य करते हैं जो मानवजाति का न्याय और शुद्धिकरण है करते हैं, जिससे हमें पाप के बंधन से पूरी तरह से मुक्त होने और स्वर्ग के राज्य में लाने में मदद मिलती है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर के प्रकटन और कार्य ने अंत के दिनों में न्याय का कार्य करते हुए प्रभु यीशु की भविष्यवाणी को पूरी तरह से पूरा किया है। प्रभु यीशु ने कहा: "माँगो, तो तुम्हें दिया जाएगा; ढूँढ़ो, तो तुम पाओगे; खटखटाओ, तो तुम्हारे लिये खोला जाएगा" (मत्ती 7:7)। जब तक हम वास्तव में खोज करते हैं, हमारे पास प्रभु के साथ फिर से जुड़ने और मेम्ने के विवाह भोज में भोजन करने का अवसर होगा।

संपादक का नोट: हमने यीशु के दूसरे आगमन के संकेतों को देखा है, और इसके माध्यम से हम निश्चित हो सकते हैं कि प्रभु वापस आ गए हैं। तो, क्या आप जल्द ही प्रभु का स्वागत करना चाहते हैं? क्या आप मेमने की दावत में शामिल होना चाहते हैं? हम आपको ऑनलाइन बातचीत के माध्यम से कभी भी हमसे संपर्क करने के लिए आमंत्रित करते हैं।

उत्तर यहाँ दें